हल्द्वानी, जेएनएन : मूल रूप से बागेश्वर के निवासी शहीद पुलिसकर्मी शेर सिंह गंगोला का बेटा राकेश गंगोला भी पिता की तरह अपनी ड्यूटी का फर्ज निभा रहा है। आन ड्यूटी हुए सड़क हादसे में 14 साल पहले पिता की मौत हुई थी। हादसे से आठ माह पहले ही राकेश पीएसी की भर्ती निकाल महकमे का हिस्सा बन गया था। पिता का साया हटने के बावजूद वह उनके आदर्शों से हौसला पाता है।

 

बागेश्वर के ग्राम रतमोली पोस्ट आफिस ताछली निवासी शेर सिंह गंगोला का परिवार वर्तमान में बिठौरिया नंबर एक स्थित जगदीश विहार में रहता है। 19 दिसंबर 2006 को नैनीताल के मल्लीताल स्थित थाने के पास हुए सड़क हादसे में शेर सिंह की जान चली गई थी। उस दौरान वह भवाली थाने में कांस्टेबल चालक के पद पर तैनात थे। बचपन से पिता की छाती पर खाकी वर्दी देख इकलौते बेटे राकेश ने अप्रैल 2006 में भर्ती पास कर पीएसी में शामिल हुआ। राकेश वर्तमान में अल्मोड़ा में तैनात है। जबकि परिवार हल्द्वानी रहता है।

 

 

शहीद परिवारों से मिलनी पहुंचे अफसर

मुखानी थानाध्यक्ष भगवान सिंह महर मंगलवार को जगदीश विहार स्थित शहीद शेर सिंह गंगोला के आवास पहुंचे। जहां उन्होंने शहीद की पत्नी बसंती देवी व परिवार के अन्य लोगों का हालचाल जाना। इसके बाद वह विष्णु विहार निवासी शहीद जवान अजय खाती के आवास भी गए। खाती का परिवार मूल रूप से पिथौरागढ़ का रहने वाला है। वहीं, सीओ नैनीताल विजय थापा व एसओ विजय मेहता ने तल्लीताल क्षेत्र निवासी शहीद दारोगा बिहारी लाल रावत के घर गए। इस दौरान अफसरों ने कहा कि विभाग हर समस्या में जवानों के परिवार के साथ खड़ा है।

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस