रामनगर, जेएनएन : हाइवे पर हथियों के हमले रोकने के लिए जंगलात ने तैयारी कर ली है। वाहन चालकों के लिए मुसीबत का सबब बने टस्कर हाथी को रेडियोकॉलर पहनाने के लिए शासन से अनुमति मिल गई है। ऐसे में गुरुवार को कॉर्बेट प्रशासन ने जंगल में दिन भर सर्च अभियान चलाया लेकिन हाथी की लोकेशन ट्रेस नहीं हो पाई।

रामनगर-रानीखेत मार्ग पर टस्कर हाथी पिछले दो साल से वाहन चालकों पर हमला कर रहा है। हाथी के बस पर हमले के दौरान पिछले माह रामनगर के एक शिक्षक की मौत भी हो चुकी है। कॉर्बेट प्रशासन ने उत्तराखंड के मुख्य वन्य जीव प्रतिपालक से हाथी को इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस रेडियो कॉलर पहनाने के लिए अनुमति मांगी। गुरुवार को कॉर्बेट के निदेशक राहुल के निर्देशन में पशु चिकित्सक दुष्यंत शर्मा अपनी टीम के साथ रेडियो कॉलर लेकर धनगढ़ी पहुंचे। जंगल में हाथी की तलाश की। शुक्रवार को भी सर्च अभियान जारी रहेगा।

तीन हाथियों से चल रही निगरानी

टस्कर की तलाश के लिए ढिकाला से तीन हाथियों को बुलाया गया है। वनकर्मी हाथियों पर बैठकर धनगढ़ी से लेकर मोहान व अल्मोड़ा के अंतर्गत चिमटाखाल क्षेत्र तक तलाश कर रहे हैं।

दो रेंजों का सुरक्षा दल बनाया

वाहनों में हो रहे हाथी के हमले को देखते हुए कॉर्बेट प्रशासन ने सुरक्षा दल बनाया है। दो रेंजों की सुरक्षा दल संयुक्त टीम बना दी है। सर्पदुली व मंदाल रेंज के वनकर्मी हाथी के मूवमेंट वाले क्षेत्रों में गश्त कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें : जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क में ड्यूटी पर मौत होने पर परिजनों को मिलेंगे पांच लाख

यह भी पढ़ें : सूर्यग्रहण के कारण पहली बार जागेश्वरधाम में तीन घंटे के लिए बंद हुए कपाट

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस