हल्द्वानी, जेएनएन : पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश में लगातार कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। वहीं, यूपी से हल्द्वानी मंडी में पहुंचने वाले वाहनों की संख्या काफ़ी अधिक रहती है। जिससे कि मंडी में कोरोना संक्रमण फैलने की संभावना अधिक है। इधर, रोजाना सुबह की बाजार में बेतहाशा भीड़ होने से खुलेआम नियमों की धज्जियां उड़ रही हैं। जबकि प्रशासन द्वारा मंडी में ख़रीदारी करने के लिए समय निर्धारित किया गया है। इसके बावजूद पूरे दिन मंडी परिसर में वाहन दौड़ते रहते हैं, मगर समिति इस संकट को लेकर सतर्क होने के बजाय लापरवाही दिखा रहा। एेसे में मंडी समिति को कोरोना से बचाव के लिए सख़्ती से प्रशासन की गाइडलाइन का अनुपालन करना चाहिए।

 

यूपी से चार सौ गाडिय़ाें का आवागमन

यूपी से फल- सब्ज़ी लेकर चार सौ गाड़ियां मंडी में रोज़ाना आती हैं। जहां वाहनों के साथ किसान, चालक-परिचालक भी होते हैं। दो माह पूर्व बरेली से अंगूर की लोडिंग लेकर हल्द्वानी मंडी पहुंचा वाहन चालाक कोरोना पॉज़ीटिव पाया गया था। जिसके बाद चालक के संपर्क में आए 21 लोगों की जांच कराई गई थी। विश्वविजय सिंह, सचिव, हल्द्वानी मंडी ने बताया कि दूसरे राज्यों से आने वाले वाहनों पर कड़ी नज़र रखी जा रही है। वाहनों को सेनिटाइज करने के बाद ही मंडी में एंट्री दी जा रही है।

 

ये है नियम

  • - मंडी में फुटकर बाजार लगाने पर प्रतिबंध
  • - सुबह सात से 11 बजे तक मंडी में ख़रीदारी करने की छूट
  • - बग़ैर पास के मंडी परिसर में नो एंट्री
  • - फेस मास्क नहीं लगाने पर एक हज़ार का जुर्माना
  • - बाहर से आए वाहन को सेनिटाइज करना
  • - फल-सब्ज़ी फुटकर कारोबारियों के प्रतिष्ठान तक सामग्री पहुंचाने का
  • - मंडी में दुकानों के सामने भीड़ लगाने से परहेज़ करना

यह भी पढ़ें 

हल्द्वानी में 24 घंटे में कोरोना संक्रमित दूसरे मरीज की मौत, निमोनिया समेत कई तरह की बीमारियों से था ग्रस्त 

काशीपुर के एक पार्षद सहित 17 आए पॉजिटिव, काशीपुर में अब नौ कंटेनमेंट जोन 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस