जागरण संवाददाता, नैनीताल: सरोवर नगरी में महाशिवरात्रि का पर्व श्रद्धा, भक्ति व उल्लासपूर्वक मनाया गया। बारिश व बर्फबारी के बीच शिव मंदिरों में ब्रह्ममुहुर्त से ही शिवभक्तों का तांता लगा रहा। भक्तों ने फल, बेलपत्र व बेरी, गंगा जल चढ़ाकर सुख समृद्धि की कामना की।

शुक्रवार को गुफा महादेव, पाषाण देवी मंदिर, नयना देवी मंदिर, गोलज्यू मंदिर, सत्यनारायण मंदिर, बारापत्थर शांतिका पीठ, सात नंबर में शिव मंदिर, माउंट रोज शिव मंदिर, क्वालिटी बोट स्टेंड के समीप शिव मंदिर, शेरवानी स्थित शिव मंदिर में विशेष अनुष्ठान हुए। हंस निवास, मेलरोज कम्पाउंड सिद्धेश्वर मंदिर में विशेष अनुष्ठान हुए। इस मौके पर पूर्व दर्जा मंत्री शांति मेहरा, सभासद दया सुयाल, संजय सुयाल, विनोद पांडे आदि थे। शेरवानी स्थित साई मंदिर में भी भजन कीर्तन हुए। गुफा महादेव में तड़के ढाई बजे से शिवभक्तों का पहुंचना शुरू हो गया था। मंदिर में प्रधानाचार्य नरेंद्र सिंह की ओर से भंडारा आयोजित किया गया, जिसमें सैकड़ों की संख्या में भक्तों ने प्रसाद ग्रहण किया। मुख्य पुजारी दीपक जोशी, पुजारी कमल तिवारी समेत सेवक पंकज, संतोष, विक्की आदि व्यवस्थाओं में लगे रहे।

============

बाजेगाजे के साथ कांवड़ियों ने मंदिर में गंगा जल चढ़ाया

नैनीताल: हरिद्वार गंगा जल लाने गए कांवड़ियों का दल गुरुवार रात नारायण नगर पहुंचा। शुक्रवार दोपहर बाद कांवड़ियों का दल बाजेगाजे के साथ झूमते गाते मल्लीताल से माल रोड होते हुए तल्लीताल पहुंचा। कांवड़ियों ने गुफा महादेव व हनुमानगढ़ में गंगा जल चढ़ाया। बारिश व हिमकण गिरने से बढ़ी ठंड भी शिवभक्तों के हौसले को डिगा नहीं पायी।

महाशिवरात्रि पर कोसी घाटी स्थित शिवालय, अल्मोड़ा-हल्द्वानी हाईवे पर काकड़ीघाट स्थित कर्कटेश्वर महादेव, गंगरकोट (सुयालबाड़ी) स्थित गुप्तेश्वर महादेव मंदिर में पूजा अर्चना करने वालों का तांता लगा रहा। ग्रामीणों ने कतारबद्ध होकर पूजा अर्चना की। भोले बाबा के जयकारों से समूची घाटी गुंजायमान हो उठी। हालाकि बारिश ने खूब खलल डाला पर भक्तों की आस्था नहीं डिगी। गुप्तेश्वर महादेव व आसपास के मंदिरों में लगे मेले में बारिश ने व्यापारियों को निराश किया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस