जागरण संवाददाता, हल्द्वानी : किराना कारोबारी मुकेश अग्रवाल को हनी ट्रैप में फंसाकर अपहरण करने की योजना अरमान ने एक सप्ताह पहले बनाई थी। इसके लिए उसे रामपुर जिले के कमोरा-धमोरा, मिलक में रहने वाले दोस्त फुरकान उर्फ ताहिर का साथ मिला और अपहरण के लिए हनीट्रैप की योजना बनाई गई। मुकेश का अपहरण करने के बाद गुरुवार को बिलासपुर में मुरादाबाद एसओजी की घेराबंदी में महिला समेत चार बदमाश तो धर ले गए, मगर पुलिस की वर्दी पहना फुरकान भागने में सफल रहा। शुक्रवार तड़के हल्द्वानी पुलिस कारोबारी के साथ तीन बदमाशों को हल्द्वानी ले आई और जेल भेज दिया।

बुधवार को हीरानगर में किराने की दुकान चलाने वाले मुकेश अग्रवाल का हनीट्रैप में फंसाकर डकैतों के गिरोह ने अपहरण कर लिया था। गिरोह की एक महिला की मदद से मुरादाबाद पुलिस ने बिलासपुर से पांच बदमाशों को दबोच लिया। इनमें दो महिलाएं थीं, जबकि एक साथी भागने में कामयाब रहा था। पुलिस कारोबारी के साथ ही सभी बदमाशों को मुरादाबाद ले गई। रातभर की जांच में पुलिस को कारोबारी के हनीट्रैप गिरोह का शिकार बनने का पता चला। इधर लापता मुकेश की तलाश में लगी हल्द्वानी पुलिस को मुकेश के मुरादाबाद पुलिस के पास होने का पता चला। इस पर पुलिस मुरादाबाद रवाना हो गई। दोनों जिलों की पुलिस की संयुक्त पूछताछ के बाद शुक्रवार तड़के स्थानीय पुलिस तीन पुरुष बदमाशों को हल्द्वानी ले आई।

पुलिस के मुताबिक हनी ट्रैप गिरोह में रामपुर जिले की दो महिलाएं, कारोबारी मुकेश का साथी अरमान शेख निवासी संजय कॉलोनी, मुखानी, नरपजीत सिंह निवासी बुकसौरा बिलासपुर, रामपुर, रईस अहमद निवासी टांडा हुरमत नगर, थाना बिलासपुर व फुरकान उर्फ ताहिर निवासी कमोरा-धमोरा, मिलक रामपुर शामिल थे। फुरकान दोनों महिलाओं का नजदीकी है। फरार हुए फुरकान की तलाश में हल्द्वानी पुलिस व एसओजी जुट गयी है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस