जागरण संवाददाता, हल्द्वानी : नैनीताल जिले की तीन आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने उल्लेखनीय कार्य कर नाम रोशन किया है। इनका चयन राज्य सरकार के महिला बाल विकास विभाग ओर से विशेष पुरस्कार के लिए किया गया है।

इसमें आंगनबाडी केंद्र सुभाषनगर चार की ज्योति रावत, गुनीपुर जीवानंद की अंजू सागर और सलियाकोट तल्ला की गीता नयाल शामिल हैं। यह पुरस्कार देहरादून में वीरांगना तीलू रौतेली की जयंती के अवसर पर दिया जाएगा। तीनों ने विभागीय सेवाएं प्रदान करने में उल्लेखनीय कार्य किया है।

कुपोषण को दूर करने में ज्योति का अहम योगदान

आंगनबाड़ी केंद्र सुभाषनगर चार की कार्यकर्ता ज्योति रावत की कड़ी मेहनत रंग लाई है। वह पिछले 11 वर्षों से आंगनबाड़ी केंद्र में सेवा दे रही हैं। वह आंगनबाड़ी केंद्र में न केवल बच्चों को पढ़ाती हैं, बल्कि कुपोषण को मुक्त करने के लिए भी जुटी रहती हैं।

ज्योति ने राजेंद्र नगर में अतिकुपोषित बच्चों को स्वस्थ बनाने को लेकर प्रयास किए। उनके अभिभावकों के श्रम कार्ड बनवाए। बजट का अभाव होने के बावजूद जनसहयोग से केंद्र को सभी सुविधाएं भी उपलब्ध कराई हैं। सुभाषनगर जैसे पाश इलाके में तमाम प्राइवेट स्कूल होने के बावजूद इस केंद्र में 25 बच्चे पढ़ रहे हैं। इस उपलब्धि पर वह कहती हैं कि यह सम्मान मुझे और काम करने के लिए प्रेरित करेगा।

योजनाओं का लाभ दिलाने में अंजू ने किए उल्लेखनीय कार्य

हल्द्वानी ग्रामीण आंगनबाड़ी केंद्र गुनीपुर जीवानंद की कार्यकर्ता अंजू सागर 19 वर्ष से कार्य कर रही हैं। कोरोना के समय जब लोग डरकर घरों के अंदर दुबक रहे थे, तब अंजू ने टीकाकरण करने में सहयोग किया। अपने क्षेत्र के आंगनबाड़ी केंद्र को सुविधाओं से युक्त बनवाया।

वह स्वच्छता से जुड़ी योजनाओं का प्रचार प्रसार करने के लिए हमेशा आगे रही। अंजू ने अपने क्षेत्र में महालक्ष्मी किट समेत विभिन्न योजनाओं का लाभार्थियों को शतप्रतिशत लाभ दिलाया। इस पुरस्कार को लेकर वह कहती हैं, उनके लिए यह सम्मान बड़ी उपलब्धि है।

Edited By: Skand Shukla