नैनीताल, [जेएनएन]: करीब तीन सौ करोड़ के एनएच मुआवजा घोटाले में प्रमुख सूत्रधारों में शुमार बिल्डर प्रिया शर्मा व सुधीर चावला के खिलाफ एसआईटी ने एंटी करप्शन कोर्ट में चार्जशीट दायर कर दी है। जिला एवं सत्र न्यायाधीश व विशेष न्यायाधीश भ्रष्टाचार निवारण सीपी बिजल्वाण की कोर्ट ने हल्द्वानी जेल में बंद प्रिया व नैनीताल जेल में बंद सुधीर चावला को तलब किया है। 

एसआईटी की ओर से करीब ढाई हजार पेज की चार्जशीट कोर्ट में दाखिल की गई है। डीजीसी फौजदारी सुशील कुमार शर्मा के अनुसार कोर्ट ने प्रिया व सुधीर को को तलब किया है। 

यहां बता दें कि इस घोटाले में एनएच चौड़ीकरण का मुआवजा भूमि की श्रेणी बदलकर कई गुना अधिक लिया गया। घोटाले के बिचौलिए जीशान द्वारा कमीशन के तौर पर प्रिया को मोटी रकम प्रदान की गई। 

एसआईटी के तत्कालीन सीओ स्वतंत्र कुमार द्वारा इसी साल 26 जनवरी को बिल्डर प्रिया शर्मा व सुधीर चावला के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण समेत अन्य धाराओं में पंतनगर थाने में मामला दर्ज किया गया था। जिसमें कहा गया था कि एनएच चौड़ीकरण में सरकार से अधिक मुआवजा प्राप्त करने के लिए बैक डेट में कृषि भूमि घोषित को अकृषि में बदलकर कई गुना प्रतिकर प्राप्त कर सरकार को भारी राजस्व की हानि पहुंचाई गई। 

इसमें बिचौलियों दलालों के माध्यम से 30 से 40 फीसद तक कमीशन लेने की बात कही गई है। ग्राम कुंडा के किसान अजमेर सिंह, सुखदेव सिंह की भूमि को बैकडेट में अकृषि दिखाकर 23 करोड़ मुआवजे का 40 फीसद कमीशन बिचौलिए जीशान द्वारा प्राप्त किया गया। 

किसानों के आरटीजीएस खाते से प्राप्त किया गया। जीशान द्वारा डेढ़ करोड़ प्रिया शर्मा की कंपनी के खाते में अधिकारियों को आरटीजीएस करने के लिए ट्रांसफर किया गया। 40 लाख प्रिया व सुधीर को दिए गए। यहां यह भी उल्लेखनीय है कि मामला दर्ज होने के बाद प्रिया शर्मा व सुधीर चावला अंडर ग्राउंड हो गए और सुप्रीम कोर्ट से भी राहत नहीं मिली तो 20 मार्च को पुलिस ने दोनों को गुरुग्राम से गिरफ्तार किया।

यह भी पढ़ें: एनएच-74 मुआवजा घोटाले में मनी लॉड्रिंग का केस दर्ज

यह भी पढ़ें: एनएच मुआवजा घोटाला: आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल

यह भी पढ़ें: डीपी सिंह मामले में सरकार से 26 तक मांगा जवाब

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट