हल्द्वानी, [जेएनएन]: बदलती लाइफस्टाइल से कर्इ तरह की शारीरिक परेशानियां होने लगती हैं। काम की व्यस्तता के चलते लोगों के पास अपने शरीर पर ध्यान देने के लिए समय नही है। शारीरिक श्रम की कमी व्यक्ति को बीमार बनाती जा रही है। ज्यादातर लोग मांसपेशियों, जोड़ों व नसों में दर्द जैसे रोगों की चपेट में आ रहे हैं। ये कहना है डॉ. मुनीश रस्तोगी का।  

विश्व फिजियोथेरेपी दिवस पर शनिवार को बेस अस्पताल में जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस दौरान डॉ. मुनीश ने बताया कि फिजियोथेरेपी के जरिये आधुनिक मशीनों व एक्सरसाइज से जोड़ों के दर्द जैसे रोगों पर नियंत्रण पाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि फिजियोथेरेपी बिना दवाईयों वाला इलाज है। जिससे कई रोगों में निजात मिल सकती है। 

इन रोगों का हो सकता है 

इलाज फिजियोथैरेपिस्ट की देखरेख में एक्सरसाइज किए जाने पर कमर दर्द, साइटिका, कंधे में जकड़न, लकवा, घुटनों में दर्द, गर्दन दर्द, मांसपेशी का दर्द जैसे रोगों में बचाव किया जा सकता है।

इन बातों का रखें ध्यान 

सोफा, कुर्सी, कार या ऑफिस में बैठते समय सही तरीका अपनाएं। 

- अपनी ऊंचाई के हिसाब से सही कुर्सी का चयन करें। 

- लेटकर या ज्यादा झुककर पढ़ाई ना करें। 

- लगातार बैठकर काम न करें। एक-दो घंटे के अंतराल पर थोड़ा चल लें। 

स्वस्थ जीवन का संदेश देंगे सौ साइकिलिस्ट 

स्वच्छ पर्यावरण, स्वस्थ जीवन का संदेश देने के लिए हल्द्वानी के सौ से ज्यादा साइकिलिस्ट तीस किलोमीटर तक साइकिल चलाकर रैली निकालेंगे। सड़कों और पहाड़ों पर चलने वाली हाइब्रिड साइकिलों के साथ सौरव होटल से साइकिलिस्ट नैनीताल रोड पर पंद्रह किलोमीटर चलेंगे। शनिवार को रामपुर रोड स्थित होटल में आयोजित पत्रकार वार्ता में ट्रैक बाइसाइकिल इंडिया के कंट्री मैनेजर नवनीत बंका व बाइक्स स्टेशन के रघुवीर कालाकोटी ने मीडिया को रैली की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि यह आयोजन साइकल राइडरों के लिए बहुत बढि़या प्लेटफार्म उपलब्ध कराएगा। आयोजन के दौरान साइकिलिंग के बारे में उपयोगी सलाह और सुझाव साझा किए जाएंगे। 

हल्द्वानी में साइकिलिस्ट की संख्या धीरे-धीरे बढ़ रही है। इसमें युवा वर्ग के साथ ही चालीस वर्ष से अधिक आयु के लोग शामिल हैं। ट्रैक फाउंडर्स राइड जैसी गतिविधियां साइकिलिंग के लिए उत्साही लोगों को एकजुट करेगी। साथ ही कम्युनिटी बिल्डिंग को प्रोत्साहन देगी। बाइक्स स्टेशन के रघुवीर कालाकोटी ने बताया कि सुबह छह बजे साइकिलिस्ट एकत्र होंगे और सात बजे रैली शुरू होगी।

यह भी पढ़ें: उम्र के हिसाब से लें आहार, किस उम्र के लिए क्या है डाइट प्लान; जानिए

यह भी पढ़ें: महंगे नहीं मोटे अनाज से बनती है सेहत, जानिए कैसे