जागरण संवाददाता, हल्द्वानी : भाजयुमो के एक प्रदेश प्रभारी ने दो लोगों पर रंगदारी मांगने का आरोप लगाते हुए कोतवाली में प्राथमिकी दर्ज कराई है। पुलिस आरोपों की जांच में जुटी है। भाजपा नेता का कहना है कि जिला विकास प्राधिकरण से जुड़े एक मामले को निपटाने के ऐवज में 20 हजार रुपये मांगे गए थे।

पैसे न देने पर इंटरनेट मीडिया के जरिये छवि खराब करने की धमकी दी गई। प्राधिकरण कार्यालय में शिकायत करने के साथ भाजपा नेता ने पुलिस से भी रंगदारी मांगने वालों के विरुद्ध कार्रवाई की मांग की थी।

भाजयुमो प्रदेश मंत्री विपिन चंद्र पांडे ने पुलिस शिकायत में बताया कि कठघरिया में उन्होंने एक बैंक्वेट हाल लीज पर लिया है। जिसमें पहले से किचन और हट बनी थी। किचन और हट को तोडऩे के बाद उन्होंने टीनशेडनुमा रेस्टोरेंट बनाया। प्राधिकरण से अनुमति नहीं होने के कारण उनका चालान भी कटा था।

कंपाउंडिंग के लिए किया है आवेदन

जिसके बाद पांडे ने कंपाउंडिंग के लिए आवेदन किया। जिस पर प्राधिकरण को अभी निर्णय लेना बाकी है। भाजयुमो पदाधिकारी का कहना है कि 29 सितंबर को उसके नवाबी रोड स्थित कार्यालय के पास ललित मोहन नेगी और प्रशांत क्षोत्रिय मिले।

आरोप है कि बातचीत के दौरान नेगी और क्षोत्रिय ने कहा कि 20 हजार रुपये हमें दोगे तो इस मामले को निपटा देंगे। पैसे न देने पर इंटरनेट मीडिया पर छवि खराब करने की धमकी भी दी।

ललित और प्रशांत पर एफआईआर 

विपिन का कहना है कि 30 सितंबर को उन्होंने प्राधिकरण में भी दोनों की शिकायत की थी। जिसके बाद कोतवाली में तहरीर सौंपी। वहीं, एसएसआइ विजय सिंह मेहता ने बताया कि तहरीर के आधार पर ललित मोहन नेगी व प्रशांत श्रोत्रिय के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है।

Edited By: Skand Shukla

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट