जागरण संवाददाता, रामनगर : Tourists rescued in Corbett : मोहान स्थित एक रिसॉर्ट में ठहरे डेढ़ सौ पर्यटक कोसी नदी की बाढ़ में फंस गए। देर रात बाढ़ का पानी नदी किनारे रिसॉर्ट में घुस गया।  रिसॉर्ट पूरी तरह जलमग्र हो गया। इससे पर्यटकों में अफरातफरी मच गई। 13 घंटे बाद बमुश्किल रेस्क्यू कर उन्हें रवाना किया गया। 

मोहान के रिसॉर्ट में दिल्ली, अहमदाबाद, गाजियाबाद व नोयडा के पर्यटक ठहरे हुए थे। रात एक बजे अचानक कोसी नदी का जलस्तर बढऩे से पानी रिसॉर्ट के भीतर पर्यटकों के कमरे तक पहुंच गया। परिसर में खड़ी कारें पूरी तरह जलमग्र हो गई। रिसॉर्ट में कोई जगह ऐसी नहीं थी, जहां पानी नहीं भरा हुआ था। इससे पर्यटकों में रात में अफरातफरी मच गई। सुबह विधायक प्रतिनिधि मदन जोशी द्वारा एसडीएम गौरव चटवाल, एसएसपी प्रीति प्रियदर्शिनी व डीएम धीरज गब्र्याल से वार्ता कर रिसॉर्ट में फंसे पर्यटकों की जानकारी दी गई।

रिसॉर्ट पूरी तरह जलमग्र होने पर विधायक प्रतिनिधि द्वारा पर्यटकों को बाहर लाने के लिए टैक्टर ट्राली भेजी। लेकिन पर्यटकों ने टैक्टर में बैठने से इंकार कर दिया तो रिसॉर्ट के जीएम निशांत ने पर्यटकों को समझाया। टैक्टर से पर्यटकों को रिसॉर्ट से निकालकर बाहर लाया गया। इसके बाद एसडीएम गौरव चटवाल ने पर्यटकों को रामनगर लाने के लिए रोडवेज डिपो की बस भेजी। अपराहन तीन बजे विधायक जोशी अपने साथ सभी पर्यटकों को रोडवेज बस से रामनगर लाए। रामनगर आने पर पर्यटक रोडवेज बस से गंतव्य को रवाना हो गए। 

कार व सामान छोड़ गए पर्यटक

कई पर्यटक काफी मायूस थे। पर्यटकों ने कहा कि उनका सामान कार में था। जो अब खराब हो गया है। जलमग्र होने की वजह से वह कार भी अपने साथ नहीं ले जा सकते हैं। कार व सामान छोड़कर पर्यटक बस से रवाना हो गए।

Edited By: Prashant Mishra