संवाद सहयोगी, नैनीताल : वैज्ञानिक तकनीकी शब्दावली आयोग महाविद्यालय, विश्वविद्यालयों व प्रतिष्ठित संस्थानों में कार्यरत विद्वानों के सहयोग से वनस्पति विज्ञान के 20 हजार तकनीकी शब्दों का हिन्दी में नामांतरण कार्य पूरा कर चुका है। इसे शीघ्र शब्द कोश के रूप में प्रकाशित किया जाएगा। शब्द कोश आयोग की वेबसाइट में ऑनलाइन पाठकों के लिए उपलब्ध रहेगा। आयोग द्वारा कार्यशालाओं के माध्यम से पूर्व में प्रकाशित शब्द कोश को भी अपडेट किया जा रहा है।

सोमवार को कुमाऊं विवि के महादेवी सृजन पीठ रामगढ़ में मानव संसाधन विकास मंत्रालय के अधीन कार्यरत आयोग की तीन दिनी कार्यशाला संपन्न हो गयी। इसमें दिल्ली, राजस्थान व उत्तराखंड के वनस्पति विज्ञान व हिन्दी के विशेषज्ञों ने हिस्सा लिया।

कार्यक्रम संयोजक वैज्ञानिक व आयोग के सहायक निदेशक डॉ. धर्मेद्र कुमार ने बताया कि आयोग विज्ञान विषयों में हिन्दी के परिभाषित शब्दकोश, शब्द संग्रह तथा संदर्भ ग्रंथ निर्माण की योजना पर काम कर रहा है। पीठ के निदेशक प्रो. देव सिंह पोखरिया ने कहा कि विज्ञान विषयों की कठिन शब्दावली को हिन्दी में लेखन को प्रोत्साहन देने के लिए पीठ द्वारा कार्यशाला का आयोजन किया जाता है। आयोग को शब्दावली क्लब की स्थापना का प्रस्ताव भेजा गया है। इससे छात्रों, शोधार्थी, प्राध्यापक व पाठक लाभांवित होंगे। कार्यशाला में प्रो. कपूर, डॉ. अनीता रानी, प्रो. नीरजा टंडन, प्रो. ललित तिवारी आदि विषय विशेषज्ञों व पीठ के शोध अधिकारी मोहन सिंह रावत ने विचार रखे।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप