Move to Jagran APP

Coronavirus: हरिद्वार जिले से 23 लोगों के सैंपल जांच को भेजे

कोरोना संक्रमण जैसे लक्षणों के आधार पर मंगलवार को 23 लोगों के सैंपल जांच के लिए भेजे गए। नये सैंपल मिलाकर इसकी संख्या 95 हो गई है। इसमें 72 की रिपोर्ट आ चुकी है और सभी निगेटिव हैं।

By Bhanu Prakash SharmaEdited By: Wed, 01 Apr 2020 11:06 AM (IST)
Coronavirus: हरिद्वार जिले से 23 लोगों के सैंपल जांच को भेजे

हरिद्वार, जेएनएन। कोरोना संक्रमण जैसे लक्षणों के आधार पर मंगलवार को 23 लोगों के सैंपल जांच के लिए भेजे गए। नये सैंपल मिलाकर इसकी संख्या 95 हो गई है। इसमें 72 की रिपोर्ट आ चुकी है और सभी निगेटिव हैं। मेला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में 16 और रुड़की के आइसोलेशन वार्ड में 15 भर्ती हैं।

सीएमओ डॉ सरोज नैथानी ने बताया कि जिले के विभिन्न क्षेत्रों में 245 लोगों की स्क्रीनिंग की गई । जिला कंट्रोल रूम में विभिन्न क्षेत्रों से 45 शिकायतें आई हैं। सभी का निस्तारण कर दिया गया। इसके अलावा जिले में समुदाय में कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के लिये 102 व्यक्तियों को फैसिलिटी क्वरांटाइन किया गया। 

हरिद्वार जोन में भेल गेस्ट हाउस में छह, राजकीय इंटर कॉलेज फेरूपुर में 54 और राही गेस्ट हाउस में दस जबकि जोन रुड़की में 19 व्यक्तियों को सीबीआरआइ गेस्ट हाउस, छह को सिंचाई विभाग गेस्ट हाउस और सात को पिरान कलियर हज हाउस में फैसिलिटी क्वरांटाइन किया गया है।

229 शिक्षकों को दिया गया प्रशिक्षण

कोरोना वायरस से बचाव और उपचार को लेकर राजकीय इंटर कॉलेज रुड़की में शिक्षकों को प्रशिक्षण दिया गया। हालांकि प्रशिक्षण के दौरान अधिक शिक्षकों के आने से शारीरिक दूरी बनाए रखने में भी दिक्कतें भी नजर आई। प्रशिक्षण के लिए 229 शिक्षक पहुंचे थे। राजकीय इंटर कॉलेज में न्याय पंचायत के आधार पर शिक्षकों को प्रशिक्षण के लिए बुलाया जा रहा है। 

प्रशिक्षण प्रभारी एवं राजकीय इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य राम मिलन सिंह ने बताया कि शिक्षकों को अलग-अलग पालियों में प्रशिक्षण दिया गया है। प्रशिक्षण के दौरान शिक्षकों को प्रोजेक्टर के माध्यम से एक क्लिपिंग भी दिखाई गई। बताया कि शिक्षकों की संख्या को देखते हुए अब बीआरसी और सीआरसी स्तर पर यह प्रशिक्षण होगा।

तीन दिन बाद भी ग्रामीणों की स्वास्थ्य जांच नहीं

पंजाब से मुंडाखेडा गांव में पहुंचे पांच लोगों की जांच न होने पर ग्रामीणों का स्वास्थ्य विभाग के प्रति रोष निरंतर बढ़ता जा रहा है। ग्रामीणों का कहना है कि विभाग को अवगत कराने के बाद भी इन लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण नहीं कराया जा रहा है। इससे गांव के अन्य ग्रामीण भी डरे हुए हैं। 

उन्होंने ग्रामीणों का स्वास्थ्य परीक्षण कराए जाने की मांग की। मामले को लेकर लक्सर विधायक संजय गुप्ता ने भी कड़ी नाराजगी जताई है। बता दें लक्सर क्षेत्र के मुंडाखेडा गांव में तीन दिन पहले पंजाब से पांच लोग वापस लौटे हैं। स्थानीय ग्रामीणों ने प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग को इसकी जानकारी दी थी, लेकिन तीन दिन का समय बीतने के बाद भी अभी तक स्वास्थ्य विभाग ने इन लोगों की जांच नहीं की है।

दूसरे राज्यों से आए तो 14 दिन का क्वारंटाइन तय

आपका कोई अपना अगर दूसरे प्रदेश से चोरी छिपे या अनुमति लेकर घर पहुंचता है तो 14 दिन का क्वारंटाइन होना तय है। जानबूझकर पुलिस प्रशासन से जानकारी छुपाई तो मुकदमा भी दर्ज हो सकता है। पुलिस और खुफिया विभाग दूसरे राज्यों से लौटने वालों पर नजर रखे हुए है। 

लॉकडाउन होने के चलते सिडकुल की 90 फीसद फैक्टियों पर ताला लटक गया है। पहले हफ्ते में सिडकुल के कामगार पैदल ही उत्तर प्रदेश, बिहार आदि राज्यों की तरफ कूच करते रहे। पड़ोसी राज्यों की आपत्ति के बाद हरिद्वार के पुलिस प्रशासन ने कामगारों व दूसरे राज्यों के यात्रियों और श्रद्धालुओं को हरिद्वार में ही रोकने का बीड़ा उठाया है। 

साथ ही, बाहर से आने वालों पर भी पैनी नजर रखी जा रही है। इसके लिए सीमावर्ती थानों की पुलिस को खास निर्देश दिए गए हैं। बॉर्डर के अलावा शहर व देहात में बीच-बीच में अवरोधक लगाकर ऐसे लोगों को चिह्नित किया जा रहा है। मंगलवार को पथरी क्षेत्र में नेपाल मूल के 30 लोगों को रोका गया है। 

ज्वालापुर में गढ़वाल के नौ युवकों को रोक कर उनका मेडिकल चेकअप कराया गया है। एसएसपी सेंथिल अवूदई कृष्णराज एस ने बताया कि बाहर से चोरी छिपे या अनुमति लेकर आने वाले लोगों की जानकारी पुलिस लगातार स्वास्थ्य विभाग को दे रही है। जिससे इन लोगों को 14 दिन के लिए क्वारंटाइन किया जा सके। इसके अलावा यदि कोई व्यक्ति दूसरे देश या प्रदेश से लौटने की जानकारी जानबूझकर छिपाता है तो उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी।

विदेश से लौटे 42 लोगों की जांच 

स्वास्थ्य विभाग की टीम ने विदेश से लौटे 42 लोगों के स्वास्थ्य की जांच की है। जांच में सभी स्वस्थ मिले हैं। इन सभी को होम क्वारंटाइन किया गया है। रुड़की क्षेत्र में 322 लोग विदेश से लौटे हैं। स्वास्थ्य विभाग की टीम इन लोगों के घरों में जाकर उनके स्वास्थ्य की जांच कर रही है। 

मेडिकल ऑफिसर इंचार्ज डॉ. दिलीरमन ने बताया कि सोमवार तक विदेश से आए 218 लोगों के स्वास्थ्य की जांच हो चुकी थी। मंगलवार को स्वास्थ्य विभाग की पांच टीम ने 42 लोगों के स्वास्थ्य की जांच की है। यह सभी स्वस्थ मिले हैं। जिन्हें 14 दिन के होम क्वारंटाइन के लिए कहा गया है। उनके घरों पर इसके लिए स्टीकर भी लगाए हैं।

पांच टीमों में डॉ. दीक्षा, डॉ. मलिका, डॉ. श्वेता, डॉ. गुंजन, डॉ. कुणाल, डॉ. कौशलेश, डॉ. सिद्धार्थ एवं फार्मेसिस्ट भावना, पुष्पा, कादिर, नौशाद तथा सचिन के नाम शामिल हैं। उधर, एमएलएचपी को टीम के साथ लगाया स्वास्थ्य विभाग की टीम के साथ एमएलएचपी को भी लगा दिया गया है। डॉ. दिलीरमन ने बताया कि इससे टीम को काफी सहयोग मिलेगा।

महिला समेत पांच लोगों को किया भर्ती 

सिविल अस्पताल रुड़की में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने पांच लोगों को आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया है। इनमें एक महिला भी शामिल है। सिविल अस्पताल में अब आइसोलेशन वार्ड में भर्ती लोगों की संख्या 14 हो गई है। स्वास्थ्य विभाग की टीम को सूचना मिली कि लालकुर्ती में भीख मांगने वाली एक महिला की तबीयत खराब है। टीम महिला को अस्पताल लाई। 

महिला को आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया है। साथ ही, ढंडेरी से एक युवक भी स्वास्थ्य विभाग की टीम लेकर आई है। युवक को खांसी की शिकायत है। पनियाला निवासी एक युवक भी अस्पताल लाया गया है। युवक अलवर राजस्थान से लौटा है। उसे तीन दिन से लगातार खांसी है। सीएमएस डा. संजय कंसल ने बताया कि तीनों को आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कर लिया गया है। उनके सैंपल लिए गए हैं। जिन्हें जांच के हल्द्वानी भेजा है।

यह भी पढ़ें: Coronavirus: बड़े अस्पतालों में ओपीडी खुलने से मरीजों को राहत, छोटे अब भी बंद

दंपती की हुई जांच

आइआइटी रुड़की निवासी एक दंपती को उनके बच्चे समेत सिविल अस्पताल लाया गया। जांच के बाद उन्हें होम क्वारंटाइन के लिए कहा गया है। आइआइटी रुड़की निवासी एक दंपती नैनीताल से आया था। उनके स्वास्थ्य की एक टीम जांच को उनके घर पहुंची। उन्हें जांच के लिए सिविल अस्पताल लाया गया। सीएमएस डॉ. संजय कंसल ने बताया कि ट्रैवल हिस्ट्री के आधार पर उन्हें लाया गया है। वह बिल्कुल ठीक हैं, एहतियात के तौर पर उन्हें 14 दिन के होम क्वारंटाइन के लिए कहा गया है।

यह भी पढ़ें: Coronavirus: उत्तराखंड में होम्योपैथिक चिकित्सक भी देंगे परामर्श, निदेशक ने जारी किए फोन नंबर