हरिद्वार, जेएनएन। ज्वालापुर में जमाती के कोरोना संक्रमित की पुष्टि होते ही बुधवार की सुबह करीब एक लाख की आबादी को पहले ही होम क्वारंटाइन के तौर पर घरों में कैद कर दिया गया था। इसके तहत छह मोहल्ले होम क्वारंटाइन किए गए थे। इसके बाद देर रात समूचे ज्वालापुर को सील कर दिया गया। इस तरह करीब ढाई लाख की आबादी होम क्वारंटाइन हो गई। 

सरकारी गाड़ियों के काफिले की आवाजाही सुनकर सुबह लोगों की आंख खुली। इसके बाद सबसे पहले मस्जिद के लाउडस्पीकर से कोरोना की दहशत की आवाज कानों में पड़ी। लोगों को यह हिदायत दे दी गई कि पूरा इलाका सील कर दिया गया है और कोई भी अपने घर से बाहर निकलने की जुर्रत न करे। 

इधर, आइसालेट किए गए कोरोना संदिग्धों की संख्या बढ़कर 58 हो गई है। लॉकडाउन में जरूरी सामान की खरीदारी के लिए सुबह सात बजे से लेकर दोपहर एक बजे तक की छूट दी जा रही थी। लोग काफी हद तक इस रूटीन में ढल चुके थे। वहीं जमातियों को क्वारंटाइन करने का सिलसिला भी करीब 10 दिन से चल रहा है। हरिद्वार शहरी क्षेत्र की आबादी इसे भी आम प्रक्रिया मान चुकी थी। 

यहां के लोगों ने पहले यह किसी ने नहीं सोचा था कि अगली सुबह उनके आस-पास ही कोरोना संक्रमण की सूचना मिलेगी। रुड़की सिविल अस्पताल में भर्ती जमाती में कोरोना की पुष्टि होते ही एसपी सिटी कमलेश उपाध्याय, सीओ सिटी अभय सिंह और ज्वालापुर कोतवाल योगेश सिंह देव पांवधोई मोहल्ले में पहुंचे। पूरे इलाके का जायजा लेकर छह एंट्री प्वाइंट चिह्नित किए गए। 

तड़के छह बजे से पहले जब ज्यादातर आबादी नींद से जागी भी नहीं थी कि इन सभी एंट्री प्वाइंटों पर बैरिकेडिंग लगाकर पुलिसकर्मियों को तैनात कर दिया गया। इसके बाद मस्जिदों के लाउडस्पीकर से ऐलान कराते हुए यह हिदायत दी गई कि कोई भी शख्स अपने घर से बाहर नहीं निकलेगा। बाहर निकलने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। 

पुलिस, प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग और नगर निगम की टीमें दौड़ने पर कुछ ही देर में पूरा माजरा लोगों को समझ आ गया। हालांकि इसके बावजूद कुछ लोगों ने रोजाना की तरह बाहर निकलने का प्रयास किया, मगर पुलिस ने उन्हें उल्टे पांव घरों में लौटा दिया। पांवधोई से सटी पंजाब नेशनल बैंक की शाखा व एटीएम के अलावा किराने के थोक कारोबारियों की दुकानें भी एहतियात के तौर पर बंद करा दी गई। 

पूरे इलाके में सेनेटाइजर का छिड़काव 

हरिद्वार नगर निगम की एक टीम को बुधवार तड़के ज्वालापुर बुलाया गया। टीम ने पांवधोई सहित आस-पास के मोहल्लों में सेनिटाइजर का छिड़काव किया। हालांकि कुछ तंग गलियों में सेनिटाइजेशन का कार्य नहीं हो पाया है। पांवधोई में बैंक तिराहे के पास एक हेल्प डेस्क बनाई गई है। 

प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की टीमें यहां से लाउडस्पीकर के माध्यम से लोगों को जरूरी निर्देश दे रही हैं। इन इलाकों को किया गया है सील कोरोना संक्रमित दोनों जमाती पांवधोई के बड़ी सड़क क्षेत्र के निवासी हैं। पुलिस ने रात में ही पांवधोई बड़ी सड़क के अलावा ईदगाह रोड, बाबर कॉलोनी, रामरहीम कॉलोनी, नीलखुदाना और वाल्मीकि बस्ती का आधा हिस्सा सील कर दिया। इनके अलावा कस्साबान, हज्जाबान, जटवाड़ा पुल क्षेत्र में लोगों के बाहर निकलने पर पाबंदी लगाई गई है। एसएसपी का कहना है कि जरूरत पड़ने पर कुछ और इलाकों को सील किया जाएगा। 

यह भी पढ़ें: लॉकडाउन में पुलिस मुकदमे से ज्यादा क्या कर लेगी..., पढ़िए

मदद के लिए बुलाए एसपीओ हरिद्वार 

सील किए गए इलाके में लोगों की मदद के लिए एसपीओ बुलाए गए हैं। एसएसपी ने मौका मुआयना करते हुए यह निर्देश दिए कि होम क्वारंटाइन किए गए लोगों तक भोजन सहित जरूरत का सामान पहुंचाने के लिए एसपीओ की मदद ली जाए, जिसके बाद स्थानीय जनप्रतिनिधियों और एसपीओ को बुलाकर जरूरी व्यवस्थाओं में लगाया गया।

यह भी पढ़ें: Uttarakhand Lockdoown: लॉकडाउन से पढ़ाई हुई प्रभावित, रोजगार के अवसरों पर भी चोट

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस