हरिद्वार, [जेएनएन]: हाईकोर्ट से नियुक्त कोर्ट कमिश्नरों ने हरिद्वार में गंगा घाटों का निरीक्षण किया। प्रशासन के दावों के बावजूद घाटों पर कई जगह गंदगी पसरी दिखी। यहां तक कि कुछ स्थानों पर सीवर का पानी भी गंगा में घुलता नजर आया। दोनों कमिश्नरों ने मौके पर फोटोग्राफी भी कराई। निरीक्षण के दौरान दुकानदारों में हड़कंप मचा रहा। कोर्ट कमिश्नर अपनी रिपोर्ट हाईकोर्ट को सौंपेंगे। 

पिछले माह 31 अगस्त को नैनीताल हाईकोर्ट ने 48 घंटे में हरकी पैड़ी और आसपास के क्षेत्र को अतिक्रमण मुक्त कराने के साथ ही गंगा घाटों की सफाई के आदेश दिए थे। इसके बाद सक्रिय हुए प्रशासन ने इलाके से अतिक्रमण हटाकर कोर्ट में अपना जवाब दाखिल किया। हालांकि इससे अदालत संतुष्ट नहीं हुई और सत्यापन के लिए दो कोर्ट कमिश्नर नियुक्त कर दिए।

शनिवार को कोर्ट कमिश्नर चेतन जोशी और निखिल सहगल ने हरकी पैड़ी और आसपास के गंगा घाटों का जायजा लिया। इस दौरान जगह-जगह गंदगी मिली। अस्थि प्रवाह घाट के पास ब्रह्मकुंड के पास एक तख्त के नीचे पॉलीथिन मिली तो महिला घाट पर चेंजिंग रूम नहीं था। 

 सुभाष घाट पर सीवर चैंबर चोक मिला वहीं नाई सोता घाट पर नाले के ऊपर  जाली नहीं थी। सुभाष घाट के पास सीवर ओवरफ्लो हो रहा था। कोर्ट कमिश्नरों ने जलसंस्थान के अधिशासी अभियंता अजय कुमार से इस बारे में पूछताछ की। कांगड़ा मंदि, भीमगौड़ा बैराज, सर्वानंद घाट, पावन धाम, प्रेम नगर घाट, पुल जटवाड़ा सीता घाट का भी जायजा लिया। रोड़ीबेलवाला मैदान में भी गंदगी मिली। 

यह भी पढ़ें: निकाय चुनाव पर हाई कोर्ट से मार्गदर्शन लेगी सरकार

यह भी पढ़ें: दून में 24 घंटे में सार्वजनिक स्थानों की हो सफाई: हाई कोर्ट

Posted By: Sunil Negi