जागरण संवाददाता, हरिद्वार। Vishwakarma Jayanti विश्वकर्मा जयंती पर बीएचईएल हरिद्वार में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। इस अवसर पर बीएचईएल की दोनों इकाईयों हीप और सीएफएफपी में पूजन का आयोजन किया गया। बीएचईएल हरिद्वार के कार्यपालक निदेशक संजय गुलाटी ने दोनों ही इकाइयों के पूजा स्थलों का भ्रमण किया और अनुष्ठान में प्रतिभागिता की।

विश्वकर्मा जयंती के अवसर पर सभी कर्मचारियों को अपनी शुभकामनाएं देते हुए संजय गुलाटी ने कहा कि विश्वकर्मा पूजन हमें सुख, शांति और सृजन की प्रेरणा देता है। उन्होंने कहा कि यह पर्व हमें सिखाता है कि निष्काम भाव से किया गया कर्म ही संसार की सबसे पवित्र पूजा है। गुलाटी ने कहा कि 'कर्म सिद्धांत' को अपने जीवन में आत्मसात करके हम हर तरह की चुनौतियों का सामना कर सकते हैं।

कोरोना महामारी को ध्यान में रखते हुए इन पूजा कार्यक्रमों में सामाजिक दूरी एवं अन्य सभी सुरक्षा नियमों का गम्भीरता से पालन किया गया । इस अवसर पर महाप्रबंधक (प्रभारी) सीएफएफपी वीके रायजादा सहित विभिन्न विभागों के महाप्रबंधक, अधिकारी, कर्मचारी और यूनियन, एसोसिएशन, फेडरेशंस के पदाधिकारी आदि मौजूद थे।

सडीआरएफ टीम ढालवाला ने की विश्वकर्मा जयंती पर पूजा अर्चना

विश्वकर्मा जयंती के मौके पर ऋषिकेश में एसडीआरएफ टीम ने ढालवाला में विधिवत पूजा अर्चना के साथ आपदा में प्रयुक्त होने वाले यंत्रों का भी पूजन किया। मुनिकीरेती के ढालवाला स्थित एसडीआरएफ कार्यालय परिसर में विश्वकर्मा जयंती के अवसर पर सभी जवानों और अधिकारियों ने आपदाओं और दुर्घटनाओं में उपयोग किये जाने वाले समस्त उपकरण, सीएसएसआर उपकरण रोटरी रेस्क्यु शा, डॉयमंड टिप चेन शा, कार्बाइड टिप चेन शॉ, चॉपिंग हैमर, ड्रिल मशीन, एंगल कटर, जनरेटर,रोप रेस्क्यू उपकरण रोप,कैरविनार, जुमार, पुली, डिसेंडर, हारनेश, मिटन, हार्ड बोर्ड फ्लड रेस्क्यु उपकरण राफ्ट, क्याक, मोटर बोट, सोनार, अंडर वाटर ड्रोन, लाइफ बॉय, रेसक्यू ट्यूब, फ्लोटिंग पंप, डाइविंग उपकरण व वाहनों की पूजा अर्चना की गई। टीम के सदस्य रविन्द्र सेमवाल ने समस्त उपकरणों की मंत्र ,उच्चारणों से पूजा की गई।टीम में एसआइ कवीन्द्र सजवाण, किशोर कुमार, मातबर सिंह, रविन्द्र, दीपक, महेन्द्र, सुरेंद्र, सुमित, लक्ष्मण, ओमप्रकाश, संदीप, अर्जुन, अमित, दबास, उपस्थित रहे।

यह भी पढ़ें- Chardham Yatra 2021: उत्‍तराखंड में कल से शुरू होगी चारधाम यात्रा, आज जारी हो सकती है इसकी SOP

Edited By: Raksha Panthri