देहरादून, जेएनएन। आशारोड़ी के पास जंगल में अवैध निर्माण रोकने गई वन विभाग की टीम पर वन गुर्जरों ने पथराव कर दिया। पथराव में चार वन आरक्षी घायल हो गए, जिन्हें कोरोनेशन अस्पताल में ले जाया गया। मामले में क्लेमेनटाउन थाना पुलिस ने एक नामजद समेत आठ वन गुर्जरों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। 

पुलिस के अनुसार राजाजी टाइगर रिजर्व पार्क के वन क्षेत्राधिकारी रामगढ़ रेंज आन सिंह कादली टीम के साथ आशारोड़ी के पास जंगल में गश्त कर रहे थे। देहरादून-दिल्ली हाईवे से करीब पांच सौ मीटर अंदर जंगल में गुलाम मुस्तफा नाम का वन गुर्जर अवैध निर्माण कर रहा था। टीम ने उसे निर्माण कार्य रोकने को कहा तो वह भड़क गया। 

उसके परिवार की महिलाएं और अन्य सदस्य टीम के साथ बदसलूकी करने लगे। कांदली ने उन्हें रोकने का प्रयास किया और कहा कि प्रतिबंधित क्षेत्र में निर्माण कार्य गैरकानूनी है। इस पर शुरू हुई बहस ने विवाद का रूप ले लिया। 

कांदली व उनकी टीम ने मोर्चा संभालने की कोशिश की, लेकिन वन गुर्जरों ने उन पर पथराव शुरू कर दिया। इसमें वन आरक्षी सीमा पैन्यूली, प्रभु दयाल नौटियाल, परशुराम व मदन सिंह के सिर और शरीर के अन्य हिस्सों में काफी चोटें आई। कांदली ने फोन कर पुलिस को सूचना दी। 

यह भी पढ़ें: लाठी डंडों से पीटकर फक्कड़ बाबा की हत्या के आरोपितों को भेजा जेल Haridwar News

सूचना के बाद क्लेमेनटाउन थाने से मौके पर पहुंची पुलिस सभी वन विभाग के कर्मचारियों को सुरक्षित जंगल से बाहर लेकर आई। एसओ क्लेमेनटाउन नरोत्तम बिष्ट ने बताया कि घायलों का कोरोनेशन अस्पताल में उपचार कराया गया। वहीं गुलाम मुस्तफा व उसके साथियों के विरुद्ध सरकारी कामकाज में बाधा पहुंचाने, जानलेवा हमला करने व अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया है। फिलहाल आरोपित मौके से फरार हो गए हैं। आरोपितों की तलाश में वन विभाग की टीम के साथ जंगल में कॉम्बिंग की जा रही है।

यह भी पढ़ें: हरिद्वार में छह लोगों ने एक साधु की हत्‍या की, तीन लोग हिरासत में

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021