जागरण संवाददाता, कोटद्वार। वन्य जीव प्रेमी विनीत बाजपेयी को उत्तराखंड की पर्यटन नगरी लैंसडौन में सड़क पर हरे रंग का सांप रेंगता नजर आया। सांप वाहन की चपेट में न आ जाए, इसलिए उन्होंने उसे सड़क से हटा कर किनारे रखने का मन बनाया। जैसे ही वे सांप के नजदीक पहुंचे तो उन्हें खुद की आंखों पर भरोसा न हुआ। उनकी नजरों के सामने व्हाइट लिप्ड पिट वाइपर रेंग रहा था। बेहद जहरीली प्रजाति के इस सांप की लैंसडौन में मौजूदगी हैरत में डालने वाली थी। दरअसल, व्हाइट लिप्ड पिट वाइपर पूर्वोत्तर भारत में ही नजर आता है।

पर्यटन नगरी लैंसडौन जहां एक ओर अपने प्राकृतिक नजरों के लिए विश्वविख्यात है, वहीं वन्य जीवन भी इस नगरी को नई पहचान दे रहे हैं। पर्यटन नगरी लैंसडौन के आसपास जहां गुलदार और भालू की धमक अक्सर देखने को मिलती है। वहीं, इस क्षेत्र में बाघ की भी मौजूदगी है। पक्षी प्रेमियों के लिए लैंसडौन से जहरीखाल का ट्रैक किसी स्वर्ग से कम नहीं। लेकिन, अब पर्यटन नगरी में एक ऐसे मेहमान ने दस्तक दी है, जिसे देख वन्य जीव प्रेमी भी हतप्रभ है।

असम, झारखंड के साथ ही पेनाल, बांग्लादेश, म्यांमार, थाइलैंड, कंबोडिया सहित कई अन्य देशों में पाया जाने वाला व्हाइट लिप्ड पिट वाइपर लैंसडौन में देखा गया है। इस अति जहरीले सांप को अपने कैमरे में कैद करने वाले वन्य जीव प्रेमी विनीत बाजपेयी बताते हैं कि व्हाइट लिप्ड पिट वाइपर की लैंसडौन में मौजूदगी वाकई चौंकाने वाली है। उनका कहना है कि पूर्वोतर राज्यों में पाया जाने वाला यह सांप लैंसडौन में नजर आना इस बात का प्रमाण है कि क्षेत्र में जलवायु में परिवर्तन आ रहा है।

इधर, कालागढ़ टाइगर रिजर्व फारेस्ट के प्रभागीय वनाधिकारी प्रकाश चंद्र आर्य ने बताया कि क्षेत्र के जंगल वन्य जीवन के लिहाज से बेहद संवेदनशील हैं। व्हाइट लिप्ड पिट वाइपर नजर आना क्षेत्र के लिए शुभ है।

यह भी पढ़ें- मसूरी : पहाड़ों की खूबसूरती देखने पहुंचे सैला‍नी, कुदरत के नजारे देख हुए मंत्रमुग्‍ध

Edited By: Raksha Panthri