देहरादून, जेएनएन। लॉकडाउन के पांचवे दिन व्यवस्थाओं में कुछ सुधार दिखा। प्रदेश सरकार ने लॉकडाउन के दौरान आवश्यक वस्तुओं की दुकानों का खुलने का समय शुक्रवार को तीन घटे और बढ़ा दिया है। कई जगह तो लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया, तो कई भीड़ दिखी।

लॉकडाउन में तीन घंटे की और ढील दी गई कि लोग जरूरत का सामान खरीद सकें। मगर, बाजार में उमड़ रही भीड़ बता रही है कि लोग जरूरत से कहीं अधिक सामान खरीद रहे हैं। यह सामान जरूरत की पूर्ति के लिए नहीं, बल्कि घर में स्टॉक जमा करने के लिए किया जा रहा है। इससे न सिर्फ कोरोना संक्रमण का खतरा कई गुना हो गया है, बल्कि इससे वस्तुओं के दाम भी अनावश्यक बढ़ रहे हैं।

बाजार की मुनाफाखोरी पर प्रशासन का अंकुश नहीं दिख रहा, न ही अधिकारी भीड़ पर नियंत्रण कर पा रहे हैं। जिलाधिकारी बार-बार अपील दोहरा चुके हैं कि खाद्य सामग्री की जमाखोरी न करें। सभी वस्तुएं पर्याप्त मात्र में उपलब्ध हैं। मगर, इसका असर होता नहीं दिख रहा। बाजार में भेड़चाल कायम है और कोरोना का खतरा भी। देहरादून के निरंजनपुर मंडी में आम लोगों के लिए प्रवेश न होने के बाद भी यहां सुबह से काफी भीड़ लगी हुई है। पुलिस के समझाने पर भी लोग नहीं माने।

राशन की दुकान के आगे लगी लाइन

ऋषिकेश के ग्रामीण क्षेत्र खदरी खड़क माफ श्यामपुर में लॉक डाउन में छूट के दौरान लोग खरीदारी के लिए घर से बाहर निकले हैं। बारिश के बावजूद राशन की दुकान में लंबी लाइन लगी। ऋषिकेश में खाद्यान्न की कीमतों में वृद्धि को देखते हुए प्रशासन ने एक रोज पूर्व ज्यादा कीमत वसूली रोकने के लिए टीम का गठन किया था। शुक्रवार को टीम में शामिल आपूर्ति निरीक्षक विजय डोभाल, बाट माप निरीक्षक अशोक शर्मा आदि ने दुकानों में जाकर आवश्यक जांच की। इस दौरान व्यापारियों से खरीदे गए माल का बिल देखा गया और वहां मौजूद ग्राहकों से बात की गई।

रायवाला में भीड़ को सुव्यवस्थित करके बांटी जा रही है राशन

गौहरी माफी में राम प्रधान की देखरेख में राशन डीलर द्वारा भीड़ को सुव्यवस्थित करके राशन बांटी जा रही है। एक बार में 14 लोगो को अलग-अलग गोले में खड़ा कर के ही राश्‍न बांटा जा रहा है। 20 मिनट में 14 लोगो को देने के बाद फिर अगले 14 लोग बुलाकर राश्‍न बांटा जा रहा है।

यह भी पढ़ें: Uttarakhand Lockdown Update: रोटी पर नहीं आने दिया जाएगा संकट, नहीं होगी आटे की कमी

उत्तरकाशी में कार से पहुंचे लोग

शुक्रवार को लॉक डाउन के बीच ज़रूरी सामान ख़रीदने की छूट के दौरान लोग अपनी कार लेकर बाज़ार पहुंचे। पुलिस ने ऐसे ही कार चालकों को वापस लौटने के लिए कहा, लेकिन कार चालक कई तरह के तर्क पुलिस को देते रहे। गौरतलब है कि शुक्रवार को जरूरी सामान खरीदने की छूट सुबह 7 बजे से लेकर दोपहर एक बजे तक की गई है, लेकिन प्रशासन ने इस दौरान केवल दोपहिया वाहनों को अनुमति दी है। नियम तोड़कर कई लोग शुक्रवार सुबह अपने चौपहिया वाहनों को बाजार में घुमाते ही नज़र आए। वहीं, शुक्रवार सुबह रसोई गैस सिलेंडर वितरण के दौरान उपभोक्ताओं ने काफी हद तक सामाजिक दूरी का पालन किया।

यह भी पढ़ें: Uttarakhand Lockdown Update: आवश्यक वस्तुओं की दुकानों का खुलने का समय बढ़ा 

Posted By: Sunil Negi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस