राज्य ब्यूरो, देहरादून। Uttarakhand Politics उत्तराखंड कांग्रेस अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने बतौर अध्यक्ष प्रीतम सिंह की ओर से विभिन्न ब्लाक अध्यक्षों की नियुक्तियां शनिवार को तत्काल प्रभाव से रद कर दीं। पूर्व में नियुक्त ब्लाक अध्यक्षों को यथावत रखने का निर्णय किया गया है।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने शनिवार को कार्यालय ज्ञाप जारी कर कहा कि 20 जुलाई को प्रदेश अध्यक्ष पद की घोषणा के बाद विभिन्न ब्लाक कमेटी के अध्यक्ष पदों पर नियुक्तियां की गईं। इन्हें तत्काल प्रभाव से रद किया गया है। पार्टी ने 22 जुलाई को गणेश गोदियाल को प्रदेश अध्यक्ष बनाया था। नए अध्यक्ष से पहले बतौर अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने संगठन में कई नियुक्तियां की थीं।

गणेश गोदियाल ने कहा कि संगठनात्मक जिला इकाई कोटद्वार की ब्लाक कमेटी दुगड्डा, ब्लाक कमेटी द्वारीखाल व ब्लाक कमेटी यमकेश्वर की संगठनात्मक इकाई की समीक्षा के लिए पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को पर्यवेक्षक की जिम्मेदारी सौंपी है। दुगड्डा ब्लाक में पूर्व प्रमुख पोखड़ा सुरेंद्र सिंह रावत, द्वारीखाल ब्लाक में जसवीर राणा व यमकेश्वर ब्लाक में धीरेंद्र सिंह नेगी को पर्यवेक्षक की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

उन्होंने पार्टी के सभी पर्यवेक्षकों से स्थानीय वरिष्ठ नेताओं व कार्यकर्त्ताओं से चर्चा के बाद संगठनात्मक समीक्षा की गोपनीय रिपोर्ट एक हफ्ते के भीतर तलब की है। उधर, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के इस कदम के विरोध में पार्टी के भीतर दूसरा धड़ा सक्रिय हो गया है। इंटरनेट मीडिया पर इस धड़े से जुड़े नेताओं ने पार्टी में निष्कासितों की एंट्री को मुद्दा बनाना शुरू कर दिया है। गिरीश चंद्र की पोस्ट में यमकेश्वर ब्लाक अध्यक्ष की नियुक्ति रद करने के फैसले पर सवाल खड़े किए गए हैं।

यह भी पढ़ें- अनिल बलूनी ने हरीश रावत पर साधा निशाना, कहा- तुष्टिकरण की राजनीति करती है कांग्रेस

Edited By: Raksha Panthri