राज्य ब्यूरो, देहरादून। Uttarakhand Assembly Elections 2022 बहुजन समाज पार्टी उत्तराखंड में तीसरा विकल्प बनने के प्रयास में जुट गई है। पार्टी सुप्रीमो मायावती ने कहा है कि उत्तराखंड में बसपा सभी 70 सीटों पर चुनाव लड़ेगी और तीसरा विकल्प बनने का प्रयास करेगी। वहीं, बसपा भी चुनावों की तैयारियों में जुट गई है। पार्टी के पदाधिकारियों व संभावित दावेदारों ने अपने क्षेत्रों में प्रचार अभियान भी शुरू कर दिया है।

उत्तराखंड के अलग राज्य बनने के बाद यहां बसपा का मजबूत जनाधार रहा है। राज्य गठन के बाद हुए पहले विधानसभा चुनाव में बसपा, कांग्रेस व भाजपा के बाद आठ सीटें जीत कर प्रदेश में तीसरी ताकत के रूप में उभर का सामने आई। यह बात अलग है कि शुरुआती विधानसभा चुनावों में शानदार प्रदर्शन करने वाली बसपा का प्रदर्शन लगातार गिर रहा है। वर्ष 2002 में हुए पहले विधानसभा चुनाव में बसपा ने 10.93 मत प्रतिशत लेकर सात सीटों पर कब्जा जमाया था।

2007 में हुए दूसरे विधानसभा चुनाव में बसपा ने 11.76 फीसद मत प्रतिशत के साथ आठ सीटें कब्जाई। वर्ष 2012 में बसपा को तीन सीटें मिली लेकिन 2017 में मोदी लहर के सामने बसपा भी नहीं टिक पाई और उसका खाता ही नहीं खुला। इस बार बदले हुए माहौल में बसपा यह मान रहा है कि मोदी लहर का असर अब कम हो गया है। ऐसे में वह प्रदेश में इस बार बेहतर प्रदर्शन करने की स्थिति में है। बसपा प्रदेश अध्यक्ष चौधरी शीशपाल ने कहा कि चुनावों की तैयारियां जोरों पर है। पार्टी के सभी पदाधिकारी क्षेत्रों में जाकर लगातार संपर्क अभियान चला रहे हैं।

बीएल संतोष आज से उत्तराखंड के दौरे पर

भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री संगठन बीएल संतोष मंगलवार को उत्तराखंड के दो दिवसीय दौरे पर आ रहे हैं। भाजपा के प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार ने बताया कि राष्ट्रीय महामंत्री संगठन बीएल संतोष मंगलवार को पिथौरागढ़ में पिथौरागढ़ व चम्पावत जिलों की बैठक लेंगे। शाम को वह देहरादून में पार्टी की चुनाव प्रबंधन समिति की बैठक में भाग लेंगे। अगले दिन भी वह प्रांतीय पदाधिकारियों की बैठक लेंगे। इस दौरान आगामी विधानसभा चुनाव के संबंध में चर्चा होगी।

यह भी पढ़ें- Uttarakhand Politics: भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक बोले, भयभीत कांग्रेस को सूझ नहीं रहा कि वह क्या करे

Edited By: Raksha Panthri