जागरण संवाददाता, देहरादून। एसोसिएशन ऑफ सेल्फ फाइनेंस इंस्टीट्यूट के अध्यक्ष डॉ. सुनील अग्रवाल ने अनुसूचित जाति-जनजाति और पिछड़ा वर्ग के छात्रों को दो वर्ष से छात्रवृत्ति नहीं मिलने के लिए विश्वविद्यालयों और समाज कल्याण विभाग को जिम्मेदार ठहराया है। उनका कहना है कि विश्वविद्यालयों और समाज कल्याण विभाग की हठधर्मिता के कारण हजारों छात्र छात्रवृत्ति से वंचित हैं।

प्रदेश के करीब 300 कॉलेजों के छात्रों को संबंद्धता न होने का हवाला देकर समाज कल्याण विभाग ने पिछले दो साल से छात्रवृत्ति नहीं दी है। इनमें 76 सेल्फ फाइनेंस कॉलेज भी हैं। इस मसले पर रविवार को एसोसिएशन ऑफ सेल्फ फाइनेंस इंस्टीट्यूट के हाथीबड़कला स्थित कार्यालय में डॉ. सुनील अग्रवाल ने प्रेस वार्ता की। इस दौरान उन्होंने कहा कि प्रदेश के कॉलेजों को विश्वविद्यालयों की तरफ से समय से संबद्धता विस्तार का पत्र जारी नहीं किया जाता है। गढ़वाल विश्वविद्यालय और श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय ने वर्तमान सत्र के संबद्धता विस्तार प्रमाण पत्र भी अब तक जारी नहीं किए हैं। 

दूसरी तरफ, पिछले दिनों समाज कल्याण अधिकारी ने एक पत्र जारी किया, जिसमें कहा गया कि कॉलेजों को 27 फरवरी तक अपने चालू सत्र की संबद्धता का प्रमाण पत्र समाज कल्याण विभाग में जमा करना है। हालांकि, गढ़वाल विश्वविद्यालय ने सभी संबद्ध कॉलेजों और उनमें संचालित कोर्स व छात्रों की संख्या की सूची अपनी वेबसाइट पर डाल दी है, लेकिन समाज कल्याण विभाग उस सूची को मानने को तैयार नहीं है। इन हालात में हजारों छात्रों की छात्रवृत्ति पर संकट आना स्वाभाविक है। 

यह भी पढ़ें- भिक्षावृत्ति रोकने को पुलिस वुमेन वेलफेयर जगाएगी शिक्षा की अलख

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021