जागरण संवाददाता, देहरादून। उत्तराखंड बोर्ड ने शनिवार को हाईस्कूल और इंटरमीडिएट का परिणाम जारी कर दिया। बिना परीक्षा के जारी हुआ परिणाम छात्र-छात्राओं को खूब रास आया। इसकी वजह रही उम्मीद से ज्यादा अंकों की बारिश, जो हर छात्र-छात्रा के लिए चौंकाने वाला विषय रहा।

उत्तराखंड बोर्ड के रामनगर स्थित दफ्तर में शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने परिणाम घोषित किया। वहीं, शिक्षा निदेशालय में अपर निदेशक प्राथमिक शिक्षा एसपी खाली और संयुक्त निदेशक बीएस नेगी ने परिणाम घोषित किया। कोरोना संक्रमण के चलते इस वर्ष उत्तराखंड बोर्ड ने 10वीं और 12वीं की परीक्षा नहीं कराई। ऐसे में 12वीं का परिणाम जारी करने के लिए 50:40:10 का फार्मूला तय किया गया। इसके तहत परिणाम में 10वीं के प्रदर्शन का 50 फीसद, 11वीं के प्रदर्शन का 40 फीसद और 12वीं के असाइनमेंट व आंतरिक मूल्यांकन का 10 फीसद वेटेज लिया गया। इसी तरह 10वीं का परिणाम 75:25 के फार्मूले से तैयार किया गया। इसके तहत छात्रों को कक्षा नौ के प्रदर्शन का 75 फीसद और 10वीं के असाइनमेंट व आंतरिक मूल्यांकन का 25 फीसद वेटेज दिया गया। उम्मीद से ज्यादा अंक मिलने के कारण छात्र-छात्राएं इस फार्मूले से बेहद खुश नजर आए।

12वीं में 95.4 फीसद अंक हासिल करने वाली स्वाती कांबोज ने बताया कि 10वीं में उन्हें 89.4 फीसद अंक मिले थे। ऐसे में 12वीं में उनका लक्ष्य 95 का आंकड़ा पार करना था। कोरोना के चलते परीक्षा नहीं दे पाईं, लेकिन परिणाम उम्मीद से बेहतर मिल गया। वहीं, 12वीं में 90.6 फीसद अंक हासिल करने वाली सलोनी ने 10वीं और 11वीं में 86.6 फीसद अंक हासिल किए थे। कई अन्य छात्र-छात्राओं का भी यही कहना था कि उन्हें उम्मीद से बेहतर परिणाम मिला है।

यह भी पढ़ें:- DECLARED Uttrakhand Board Result 2021: दसवीं में 99.09 व बारहवीं में 99.56 फीसद विद्यार्थी सफल, यहां देखें रिजल्‍ट

Edited By: Sunil Negi