जागरण संवाददाता, देहरादून। उत्तराखंड राज्य आंदोलनकारी मंच ने राज्य में कोरोना के बढ़ते संक्रमण पर चिंता जताते हुए 15 दिनों का पूर्ण लॉकडाउन लगाने और सांसद और विधायकों की पूरी निधि महामारी में खर्च करने की मांग की है। वर्चुअल बैठक में मंच के अध्यक्ष जगमोहन सिंह नेगी ने सभी वक्ताओं के विचार जानने के बाद प्रस्ताव पास किया। 

इसमें सरकार को 15 दिन का पूर्ण लॉकडाउन लगाने, निजी अस्पतालों को सरकार की ओर से अधिगृहित कर निश्शुल्क उपचार कराने, कालाबाजारी करने वालों पर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज करने, कोविड टेस्ट, कोविड उपचार और वैक्सीनेशन के अलग-अलग नोडल अधिकारी बना कर प्राथमिकता देने, मजदूरों और जरूरतमंदों की सहायता के लिए पुलिस टास्क फोर्स का गठन करने, बिजली के बिल में की गई वृद्धि तत्काल वापस करने, सभी सांसद व विधायकों की पूरी निधि कोविड महामारी में खर्च करने और बच्चों की फीस न देने की स्थिति में स्कूल से न निकलाने का प्रस्ताव पास किया गया। ये प्रस्ताव मंच सरकार को भेजेगा। बैठक में महेंद्र रावत, प्रदीप कुकरेती, राधा तिवारी, चंद्रकांता बेलवाल, दमयंती देवी, कैलाश ध्यानी आदि शामिल हुए।

कोरोना से मुक्ति को आज से तीन दिवसीय यज्ञ

कोरोना महामारी से मुक्ति के लिए भवन श्री कालिका माता समिति की ओर से अंसारी मार्ग स्थित मंदिर में रविवार से तीन दिवसीय यज्ञ किया जाएगा। उत्तराखंड विद्वत सभा के पंडित विधिवत मंत्रोच्चार के साथ कोरोना संक्रमण से मुक्ति के लिए पूजा करेंगे।

मंदिर समिति के प्रधान नरेश मैनी ने बताया कि यज्ञ सुबह साढ़े छह बजे से शुरू होगा। पंडित यज्ञशाला में कोरोना संक्रमण के निवारण और संक्रमित व्यक्तियों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करेंगे। कोरोना से मृतकों की आत्मा की शांति के लिए भी प्रार्थना होगी। अखंड ज्योति पूजन, रोग शांति के लिए नारायण कवच का पाठ, श्री महामृत्युंजय जाप और दुर्गा सप्तशती का पाठ भी किया जाएगा। 

यह भी पढ़ें- डिलीवरी कर्मचारियों को कोरोना वॉरियर घोषित करने की मांग, फेडरेशन ने सीएम को लिखा पत्र

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें