जागरण संवाददाता, देहरादून: संस्कृत छात्र सेवा समिति जिला इकाई दून ने दो दिवसीय वार्षिकोत्सव धूमधाम से मनाया। रविवार को समापन समारोह के मुख्य अतिथि शिक्षा मंत्री अरविंद पाडेय ने विभिन्न प्रतियोगिताओं के विजेता छात्र-छात्राओं को सम्मानित किया।

अरविंद पाडेय ने अपने संबोधन में संस्कृत को विश्व जगत की भाषा बताया। उन्होंने छात्रों को संस्कृत का लगातार अध्ययन करने और इस भाषा को सच्चे मन से आत्मसात करने के प्रति भी प्रेरित किया। शिक्षा मंत्री ने कहा कि ऐसी प्रतियोगिताओं से जहा छात्रों को संस्कृत की अधिक जानकारी मिलेगी। वहीं उनका मानसिक और बौद्धिक विकास भी होगा। कार्यक्रम में छात्रों ने कई रंगारंग प्रस्तुति दी। समारोह के दौरान शिक्षा मंत्री ने गुरुराम राय संस्कृत महाविद्यालय के पूर्व प्राचार्य डॉ. मोहनलाल जोशी और स्व. गिरधर प्रसाद सिलोड़ी को वयोवृद्ध शिक्षक सम्मान से सम्मानित किया। इस दौरान सुभाष जोशी, सुभाष चंद्र डोभाल सहित कई अन्यों ने संस्कृत के उत्थान और इसकी प्रगति पर अपने विचार रखे। कार्यक्रम के दौरान महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. सूर्यमोहन भट्ट ने मुख्य अतिथि सहित सभी मेहमानों का स्वागत किया। समारोह में समिति के प्रदेश अध्यक्ष कैलाश व्यास, महामंत्री सर्वेश तिवाड़ी, नत्थीलाल भट्ट, मनोज शर्मा, अभिषेक शर्मा, आशीष संकरियाल, संदीप उनियाल, शिवम अवस्थी, राहुल नैथानी, कविंद्र मौजूद रहे।

इन छात्रों ने जीते पुरस्कार

योगासन में दृष्टि कुमारी प्रथम, अंकित जोशी द्वितीय व लक्ष्यता तृतीय रही। भाषण प्रतियोगिता में मीरा प्रथम, अपर्णा जोशी द्वितीय और पवन नौटियाल तृतीय स्थान पर रहे। श्लोक वाचन में शैलेश ममगाई प्रथम, मीनू द्वितीय व अंकित तृतीय स्थान पर रहे। समूह गान में ज्योति प्रथम, अंशिका द्वितीय व रंजित नौटियाल तृतीय स्थान पर रहे।

Posted By: Jagran