देहरादून, निशांत चौधरी। क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड से पंजीकृत क्रिकेटर अब सोशल मीडिया पर लाइव इंटरव्यू या वीडियो चैट से नहीं जुड़ पाएंगे। खिलाड़ियों को इस तरह के आयोजन से जुड़ने से पहले एसोसिएशन से अनुमति लेनी होगी। इस संबंध में एसोसिएशन ने फरमान जारी किया है। इसमें कहा गया कि बिना अनुमति इन गतिविधियों में शामिल होने खिलाड़ियों पर अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी। 

हालांकि एसोसिएशन का कहना है कि यह व्यवस्था खिलाड़ियों के हित के लिए ही की गई है। क्योंकि पूर्व में भारतीय सीनियर टीम के खिलाड़ी लाइव चैट शो में बयान देकर विवादों में घिर गए थे। जिस कारण उन्हें कई महीनों तक उन्हें क्रिकेट से दूर रहना पड़ा था। 

उत्तराखंड के क्रिकेटरों के साथ ऐसा न हो, इसके लिए एसोसिएशन ने एहतियात यह कदम उठाया है। लॉकडाउन के दौरान कई क्रिकेट लाइव चैट शो से जुड़े थे, लेकिन अब उन्हें इसके लिए सीएयू से अनुमति लेनी जरूरी होगी। 

संभव नहीं है मस्ती की पाठशाला

बच्चों की मस्ती की पाठशाला पर भी कोरोना का असर पड़ रहा है। क्योंकि हर साल गर्मियों की छुट्टियों में लगने वाले समर कैंप के आयोजन कोरोना वायरस संक्रमण के मद्देनजर संभव नहीं हैं। ऐसे में घर में काफी समय से रह रहे बच्चे निराशा हैं। 

इन कैंपों के माध्यम से बच्चे मनोरंजन के साथ-साथ कई गतिविधियों में सहभागिता करते थे, जिससे उनका मानसिक और व्यक्तित्व का विकास भी होता है। ज्यादातर आयोजक इस वर्ष समर कैंप के आयोजन के पक्ष में नहीं हैं। उनका मानना है कि अभिभावक भी कोरोना के डर से बच्चों को समर कैंप में भेजने से डरेंगे। 

साथ ही समर कैंप में कई ऐसी गतिविधियां होती हैं, जिसमें बच्चे आपस में घुलते मिलते हैं। इससे संक्रमण फैलने का खतरा है, इसलिए वर्तमान परिस्थिति को देखते हुए कैंप बच्चों के हित में नही है। इसलिए अभिभावक घर पर ही बच्चों की प्रतिभा को निखारने का काम करें। 

अब छात्रों को ऑनलाइन खेल प्रशिक्षण 

कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के लिए लॉकडाउन के बाद अब अनलॉक एक भी केंद्र ने जारी कर दिया है। लेकिन इस दौरान फिलहाल स्पोर्ट्स गतिविधियां शुरू होने पर अभी संशय हैं। ऐसे में अब महाराणा प्रताप स्पोर्ट्स कॉलेज ने छात्रों को खेल प्रशिक्षण ऑनलाइन देने का निर्णय लिया है। कॉलेज ने इसकी शुरुआत भी कर दी है। 

हालांकि, लॉकडाउन के दौरान छात्रों की ऑनलाइन क्लास जारी है। लेकिन कॉलेज बंद होने के बाद से खेल प्रशिक्षण बंद था, लेकिन अब स्पोर्ट्स कॉलेज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से खिलाड़ियों को खेल प्रशिक्षण भी देगा। जिसमें खेल संबंधित टिप्स दिए जाएंगे साथ ही प्रतिदिन रनिंग व अन्य फिजिकल एक्सरसाइज कराई जाएगी। 

साथ ही प्रशिक्षक वीडियो कॉल के माध्यम से इसकी मॉनिटरिंग भी करेंगे। जिससे सभी खिलाड़ियों पर नजर रखी जा सकें। कॉलेज खुलने पर जब छात्र मैदान में उतरेंगे तो उन्हें ऑनलाइन प्रशिक्षण का फायदा मिलेगा। इससे उनकी फिटनेस बनी रहेगी। 

खिलाड़ियों के लिए नई गाइडलाइन जारी 

अनलॉक 1.0 में केंद्र सरकार ने कई तरह की छूट दी गई हैं। केंद्र के बाद राज्य सरकार ने भी खेल परिसर खोले जाने के निर्देश दे दिए हैं। हालांकि जिले में अभी खेल परिसर नहीं खुले हैं, जिस कारण खेल गतिविधियां बंद हैं। केंद्र के निर्देशों के मद्देनजर उत्तराखंड एथलेटिक्स एसोसिएशन ने खिलाडिय़ों के लिए नई गाइडलाइन जारी की है। इसके तहत सुबह रनिंग और प्रशिक्षण के दौरान खिलाड़ियों को मास्क न पहने की छूट दी गई है। लेकिन प्रशिक्षण के बाद मास्क पहना अनिवार्य है।

यह भी पढ़ें: CoronaVirus: कोरोना के 'बाउंसर' से गोल्ड कप के आउट होने का खतरा

मगर दो महीनों से घर पर रह रहे खिलाड़ियों ने स्वयं को फिट रखने के लिए सुबह की रनिंग और अन्य गतिविधियां भी शुरू कर दी है। कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए उत्तराखंड एथलेटिक्स एसोसिएशन ने खिलाड़ियों को निर्देश दिए हैं कि खेल गतिविधियों के दौरान शारीरिक दूरी का पालन करें साथ ही आरोग्य सेतु एप मोबाइल पर डाउनलोड करें।

यह भी पढ़ें: ऑनलाइन वुशु चैंपियनशिप में खिलाड़ी दिखाएंगे प्रतिभा, ट्रायल प्रक्रिया शुरू

Posted By: Bhanu Prakash Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस