देहरादून, [जेएनएन]: सेना में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने के मकसद से बालिकाओं का विशेष प्रशिक्षण शुरू हो गया है। देहरादून और श्रीनगर में तीन-तीन सौ के बैच में बालिकाओं को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। 

भारतीय सेना की कोर ऑफ मिलिट्री पुलिस (सीएमपी) के लिए बालिकाओं का भर्ती प्रशिक्षण शुरू हो गया है। यूथ फाउंडेशन देहरादून और श्रीनगर (चौरास) में बालिकाओं को भर्ती पूर्व प्रशिक्षण दे रहा है। फाउंडेशन के संस्थापक कर्नल अजय कोठियाल ने बताया कि भर्ती प्रशिक्षण में पहली बार बालिकाओं को भी सेना के लिए तैयार किया जा रहा है। बालिकाओं को भर्ती पूर्व प्रशिक्षण के लिए राज्य के अलग-अलग जनपदों में सिलेक्शन कैंप आयोजित किए गए। जिसमें कुल 2269 बालिकाओं का रजिस्ट्रेशन किया गया। इनमें से अभी तक 607 बालिकाओं का चयन प्रशिक्षण के लिए किया गया है। देहरादून के भगवान दास इंजीनियरिंग कॉलेज बालावाला और श्रीनगर (चौरास) में करीब 300-300 के बैच में इन बालिकाओं को प्रशिक्षण दिया जाएगा। 

बालिकाओं में दिख रहा उत्साह 

कर्नल कोठियाल ने बताया कि अब प्रदेश की बेटियां भी देश की रक्षा करेंगी। भर्ती कैंप में पहुंच रही इन बालिकाओं में देश के प्रति अलग ही जुनून है। प्रशिक्षण केंद्र में बालिकाओं को भारतीय सेना के गौरवशाली इतिहास की जानकारी दी जाएगी। सीएमपी भर्ती प्रशिक्षण के साथ ही उन्हें पुलिस के लिए भी तैयार किया जाएगा। उन्होंने कहा कि राष्ट्र निर्माण में बेटियों को बहुत बड़ा योगदान है। आज जरूरत बेटियों की ताकत का सही इस्तेमाल करने की है। संस्थान के विक्रम सिंह चौधरी ने बताया कि भर्ती कैंप को लेकर बालिकाओं में उत्साह है। कैंप में बालिकाओं को भर्ती के लिए जरूरी टिप्स दिए जाएंगे। 

यह भी पढ़ें: उत्‍तराखंड पुलिस की मुख्य धारा में शामिल हुए 175 आरक्षी

यह भी पढ़ें: मुख्यधारा में शामिल हुर्इं 163 महिला आरक्षी, अब पोस्टिंग की तैयारी

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड को मिलीं 163 महिला आरक्षी, राज्य की सेवा को हैं तैयार 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस