देहरादून, राज्य ब्यूरो। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री एवं साहित्यकार रमेश पोखरियाल निशंक का 22 साल पहले रिवर्स पलायन पर लिखा गढ़वाली गीत 'आवा गौं जौंला' (आओ गांव जाएंगे) इन दिनों सोशल मीडिया में छाया हुआ है। लोकगायक पद्श्री प्रीतम भरतवाण ने इस गीत को आवाज दी है। चार दिन के वक्फे में ही 70 हजार से ज्यादा लोग इस गीत को सुन चुके हैं।

साहित्यकार निशंक के सात गढ़वाली गीतों से सजी अलबम 'उत्तरांजली' वर्ष 1998 में रिलीज हुई थी। तब गीतों को गायक अनिल बिष्ट और साथियों ने स्वर दिए थे। इसमें शामिल 'आवा गौं जौंला' सहित दो अन्य गीत दूरदर्शन से भी प्रसारित हुए। 

22 साल बाद 'आवा गौं जौंला' गीत को लोकगायक पद्मश्री प्रीतम भरतवाण ने 2019 में अपनी आवाज में रिकार्ड किया। अब जबकि बड़ी संख्या में प्रवासी गांव लौट रहे हैं तो मौजूदा परिस्थितियों में यह गीत फिट बैठ रहा है। इसे देखते हुए एक कंपनी ने चार दिन पहले सोशल मीडिया में इस गीत का वीडियो रिलीज किया, जो खूब वायरल हो रहा है। 

इस वीडियो का निर्माण एवं निर्देशन बेचैन कंडियाल ने किया है। गीत में प्रवासियों का गांव वापस आने का आह्वान किया गया है। साथ ही गीत के वीडियो में उत्तराखंड के रमणीक स्थलों को भी बखूबी दर्शाया गया है।

यूट्यूब पर हिट हुआ शिवम का कैंट तेरी नजरा गीत

देहरादून में रहकर पढ़ाई करने वाले हरिद्वार के शिवम सड़ाना का गीत 'कैंट तेरी नजरां’इन दिनों यूटयूब पर धमाल मचा दिया है। इस गीत को अभी तक एक मीलियन व्यूज मिल चुके हैं। जिससे हरिद्वार में शिवम का परिवार और देहरादून में उनके दोस्त व पूरी टीम खासी उत्साहित है।

महज 27 साल के शिवम सड़ाना हरिद्वार में जन्मे हैं। पढ़ाई देहरादून में होने के चलते शिवम का ज्यादातर वक्त राजधानी में बीता है। शिवम एक इंडिपेंडेंट सिंगर व रैपर हैं और इनका खुद का यूट्यूब चैनल भी है। हाल ही में शिवम ने 'कैंट तेरी नजरां’तैयार कर यूटयूब पर अपलोड किया। 

इस गीत को 10 लाख से ज्यादा लोगों ने देखा और लॉकडाउन के कुछ ही हफ्ते में शिवम अपने इस गीत से दिल्ली, पंजाब और मुंबई तक मशहूर हो गए। दैनिक जागरण से बातचीत में शिवम ने बताया कि इस गीत की शूटिंग पंजाब और देहरादून में हुई है। इस गीत के बोल उन्होंने खुद लिखे हैं और खुद ही इसे गाया है। 

शिवम सडाना ने बताया कि इससे पहले उनका एक और गीत 'पावें गुच्ची’ भी युवाओं को बहुत पसंद आ चुका है। इनका एक हिंदी गीत चल हमसफर मुंबई की कंपनी टी सीरीज से भी रिलीज हो चुका है।

यह भी पढ़ें: गढ़वाली सरस्वती वंदना की सोशल मीडिया पर धूम, नई पीढ़ी को लोक संस्कृति से जोड़ने की पहल 

फेसबुक और इंस्टाग्राम पर एक्टिव रहने वाले शिवम सडाना मशहूर सिंगर बादशाह, गुरु रंधावा और मिलिंद गाबा जैसे सिंगर्स को कड़ी टक्कर देना चाहते हैं। शिवम का कहना है कि लॉकडाउन में लोग अपने घर पर सुरक्षित रहते हुए समय का इस्तेमाल संगीत का रियाज, गाने लिखने या म्यूजिक कम्पोज करने में कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: लॉकडाउन के दौरान बच्चों की कार्टून चैनलों से ज्यादा रामायण और महाभारत में रही दिलचस्पी

Posted By: Bhanu Prakash Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस