देहरादून, [जेएनएन]: उत्तराखंड और हरियाणा सरकार के बीच जल्द ही किसाऊ व रेणुका बहुद्देशीय परियोजनाओं के संबंध में एमओयू किया जाएगा। दोनों ही सरकारें संयुक्त रूप से केंद्र में दस्तक देकर किसाऊ के लिए जल्द से जल्द टेंडर की अनुमति देने का अनुरोध करेंगे। इसके अलावा दोनों राज्य जल्द ही परिवहन करार पर भी हस्ताक्षर करेंगे। 

शुक्रवार को देहरादून के सहस्रधारा हेलीपैड स्थित गेस्ट हाउस में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से मुलाकात हुई। इस दौरान दोनों के बीच किसाऊ, लखवाड़ व रेणुका जल विद्युत परियोजनाओं के संबंध में चर्चा हुई।

दरअसल, दोनों राज्यों के मध्य किसाऊ बहुद्देशीय परियोजना में बिजली व पानी की भागीदारी के संबंध में निर्णय लिया गया है। इस परियोजना से उत्तराखंड को बिजली मिलेगी तो हरियाणा को सिंचाई व अन्य कार्यों के लिए 47 प्रतिशत पानी की आपूर्ति होगी।

किसाऊ, लखवाड़ व रेणुका बहुद्देशीय परियोजनाओं को तय समय पर पूरा करने के लिए राज्यों के सामूहिक प्रयास पर जोर दिया जा रहा है। लखवाड़, बहुद्देशीय परियोजना को अगले चार सालों में पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। लखवाड़ से हरियाणा को प्रतिवर्ष 160 क्यूसेक पानी की प्रतिवर्ष आपूर्ति की जाएगी।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि तीनों परियोजनाओं को तय समय पर पूरा करने के लिए साझा प्रयास किए जा रहे हैं। दोनों राज्य केंद्र से मुलाकात कर तीनों परियोजनाओं के लिए जल्द से जल्द टेंडर प्रक्रिया आरंभ करने का अनुरोध करेंगे ताकि दोनों राज्यों के बिजली व पानी की जरूरतें पूरी हो सकें। मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र व राज्य सरकारों के मध्य बेहतर समन्वय से अब दशकों से लंबित कार्य भी पूरे हो रहे हैं। 

इस मुलाकात के दौरान प्रमुख सचिव आनंद वद्र्धन, उत्तराखंड जल विद्युत निगम लिमिटेड के प्रबंध निदेशक एसएन वर्मा व अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। इससे पूर्व हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने शुक्रवार को बदरीनाथ धाम के दर्शन भी किए।

दून इंटरनेशनल डेयरी और कृषि एक्सपो-2018 का शुभारंभ

वहीं सीएम ने परेड ग्राउंड देहरादून में पीडीएफए द्वारा आयोजित पहले दून इंटरनेशनल डेयरी और कृषि एक्सपो-2018 का शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री ने सभी किसानों, पशुपालकों और डेयरी उद्योग से जुड़े प्रतिभागियों की प्रदर्शनियों का अवलोकन किया और उनका उत्साहवर्द्धन किया।

यह भी पढ़ें: यूजेवीएनएल ने 4000 मेगावाट के लिए छोड़ी 80 मेगावाट की परियोजनाएं

यह भी पढ़ें: आर्थिक तरक्की का गवाह बना अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम, खुशहाली को लेकर हुआ मंथन

यह भी पढ़ें: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बोले, 'ऊर्जा' का स्रोत है उत्तराखंड 

Posted By: Raksha Panthari