देहरादून, [राज्य ब्यूरो]: हाईकोर्ट के आदेशों के मद्देनजर प्रदेश सरकार आगामी 15 नवंबर को निकाय चुनाव कराने की तैयारी कर रही है। सूत्रों की मानें तो प्रदेश सरकार 15 अक्टूबर को राज्य निर्वाचन आयोग को चुनाव कार्यक्रम तय कर सौंप देगी। इसी दिन निकाय चुनाव की अधिसूचना जारी होने की भी संभावना है। 

सूत्रों के अनुसार सरकार ने चुनाव का जो खाका खींचा है उसके मुताबिक 15 नवंबर को मतदान और 17 नवंबर को चुनाव परिणाम घोषित किए जाएंगे। हाईकोर्ट द्वारा सरकार को जिन नगर पालिकाओं और पंचायतों में आरक्षण प्रक्रिया संपन्न हो गई है, वहां चुनाव कराने के आदेश दिए हैं। 

इस कड़ी में विधानसभा में शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने कोर्ट के आदेश पर विधिक राय लेने के लिए सभी संबंधित विभागों के साथ मंथन किया। देर रात तक चली इस बैठक में निकायों में आरक्षण तय करने के साथ ही चुनावों की प्रस्तावित तिथि को लेकर भी मंथन किया गया। 

सूत्रों की मानें तो सरकार ने चुनावों के लिए प्रस्तावित कार्यक्रम तैयार कर लिया है। इसके मुताबिक सरकार 15 अक्टूबर को राज्य निर्वाचन आयोग को प्रस्तावित कार्यक्रम भेजेगी। इसी दिन आयोग चुनाव की अधिसूचना जारी कर सकता है। 16 अक्टूबर को सभी जिलाधिकारी अपने-अपने जिलों के अंतर्गत आने वाले निकायों के लिए इस अधिसूचना को जारी करेंगे। 

17, 18 व 20 अक्टूबर को चुनावों के लिए प्रत्याशियों की नामांकन प्रक्रिया चलेगी। 19 अक्टूबर को दशहरा होने के कारण अवकाश रहेगा। 22 से 23 अक्टूबर तक नामांकन पत्रों की जांच की जाएगी। प्रस्तावित कार्यक्रम में 25 अक्टूबर का दिन नाम वापसी के लिए निर्धारित किया गया है। 

26 अक्टूबर को चुनाव चिह्न का आवंटन किया जाएगा। प्रस्तावित कार्यक्रम के अनुसार 15 नवंबर को चुनाव और 17 नवंबर को मतगणना की जाएगी। इसी दिन परिणामों की घोषणा भी कर दी जाएगी। रुड़की नगर निगम के आरक्षण निर्धारण प्रक्रिया को भी इसके साथ-साथ ही चलाया जाएगा, ताकि वहां भी समय से चुनाव कराए जा सकें। 

सरकार के प्रवक्ता और शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक के अनुसार हाईकोर्ट की भावना के अनुसार तय समय पर चुनाव कार्यक्रम जारी कर दिया जाएगा। सरकार ने चुनाव के लिए अपनी ओर से तैयारी पूरी कर रखी है।

यह भी पढ़ें: भाजयुमो की ऋषिकेश मंडल कार्याकरिणी का विस्तार, इनको मिला दायित्व

यह भी पढ़ें: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बोले, 'ऊर्जा' का स्रोत है उत्तराखंड

यह भी पढ़ें: इन्वेस्टर्स समिट: पारंपरिक छवि में बदलाव के मुहाने पर देवभूमि