जागरण संवाददाता, देहरादून। Highlights Uttarakhand COVID 19 Cases News उत्तराखंड में कोरोना की रफ्तार कम होने का नाम नहीं ले रही है। बल्कि नए मरीजों का ग्राफ हर दिन तेजी से चढ़ता जा रहा है। स्थिति की भयावहता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि मंगलवार को पहली बार प्रदेश में कोरोना के 7028 मामले आए हैं, जबकि 85 मरीजों की मौत भी हुई है। चिंता की बात इसलिए भी है कि सैंपल पॉजिटिविटी रेट 18.47 फीसद रहा है। 

स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार निजी व सरकारी लैब से 38046 सैंपल की रिपोर्ट प्राप्त हुई है, जिनमें 31018 की रिपोर्ट निगेटिव आई है। दून में कोरोना की दूसरी लहर जमकर कहर बरपा रही है। यहां कोरोना के 2789 मामले आए हैं। ये अब तक एक दिन में आए सर्वाधिक मामले हैं। यही नहीं जिले में संक्रमण दर भी 29 फीसद रही है। ऊधमसिंहनगर में 833, नैनीताल में 819 व हरिद्वार में 657 लोग संक्रमित मिले हैं। 

पहाड़ी जिलों में भी मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। पौड़ी गढ़वाल में 513, पिथौरागढ़ में 231, बागेश्वर में 215, टिहरी गढ़वाल में 200, अल्मोड़ा में 170, चंपावत में 163, उत्तरकाशी में 153, चमोली में 150 व रुद्रप्रयाग में 135 मामले आए हैं। इधर, विभिन्न जनपदों में 5696 मरीज स्वस्थ भी हुए हैं। बता दें कि अब तक प्रदेश में कोरोना के दो लाख चार हजार 51 मामले आए हैं, जिनमें एक लाख 40 हजार 184 लोग स्वस्थ हो गए हैं। प्रदेश में सक्रिय मामले 56627 पहुंच गए हैं। वहीं, कोरोना संक्रमित 3015 मरीजों की अब तक मौत हो चुकी है।  

एक ही गांव में मिले 39 ग्रामीण कोरोना पॉजिटिव

नरेंद्रनगर ब्लॉक के बगीद गांव में 39 ग्रामीण कोरोना पाज़िटिव मिले हैं। गांव को कंटेन्मेंट जोन बना दिया गया है।  गजा के पास बगीद गांव की प्रधान लक्ष्मी चौहान ने स्वास्थ्य विभाग की टीम से ग्रामीणों की कोरोना जांच की मांग की थी।  स्वास्थ्य विभाग की टीम ने कोरोना जांच की तो 39 ग्रामीणों की रिपोर्ट पाज़िटिव आई है। प्रशासन ने गांव को कंटेन्मेंट जोन बना दिया है। तहसीलदार गजा रेनू सैनी ने बताया कि गांव में जरुरत का सामान ग्रामीणों को उपलब्ध कराया जाएगा। सभी को कोरोना किट दे दी गई है। ग्रामीणों के संपर्क में आये नागरिकों की सूची बनाई जा रही है।

मसूरी में 48 की रिपोर्ट पॉजिटिव 

उप जिला चिकित्सालय में सोमवार को 49 लोग के रैपिड एंटीजन टेस्ट किए गए, जिनमें से चार लोग संक्रमित पाए गए। वहीं आटीपीसीआर जांच के लिए 81 लोग के सैंपल लिए गए। इसके अलावा जिन लोग के पूर्व में सैंपल लिए गए थे, उनमें 48 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। वहीं यहां बनाए गए वैक्सीनेशन सेंटर में 108 लोग को टीका लगाया गया। 

कोरोना से बच्ची की मौत, दादी भी संक्रमित

चमोली जिले के थराली सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में सोमवार को एक ढाई माह की बच्ची की कोरोना से मौत हो गयी। बच्ची की दादी भी कोरोना संक्रमित मिली हैं। जनपद चमोली में सोमवार को कोरोना के 169 नए मामले सामने आए। थराली में बच्ची की मौत होने के स्वजन को होम आइसोलेट किया है। थराली स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी डॉ. पूनम के मुताबिक ढाई माह की बच्ची को उसके स्वजन गंभीर हालत में अस्पताल लाए थे। बच्ची का एंटीजन टेस्ट करने पर उसका टेस्ट कोरोना पॉजिटिव आया। इसके तुरंत बाद ही बच्ची ने अस्पताल में ही दम तोड़ दिया। वहीं बच्ची की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उसके स्वजन का भी एंटीजन टेस्ट किया गया, एंटीजन टेस्ट में बच्ची की दादी भी कोरोना पॉजिटिव पाई गई जबकि ढाई माह की मासूम की मां व दादा की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आयी है। उपजिलाधिकारी थराली सुधीर कुमार ने जानकारी देते हुए कहा कि बच्ची के स्वजन की आरटीपीसीआर टेस्टिंग भी की जाएगी व रिपोर्ट आने तक सभी को होम आइसोलेट किया है।

कैंट अस्पताल में जल्द शुरू होगा कोविड केयर सेंटर

सैनिक कल्याण मंत्री गणोश जोशी ने सोमवार को गढ़ी कैंट स्थित छावनी अस्पताल का निरीक्षण किया। अस्पताल को 150 बेड के कोविड केयर सेंटर के तौर पर विकसित किया जा रहा है। सैनिक कल्याण मंत्री स्वयं इस अस्पताल को तैयार करा उपचार शुरू कराने के लिए प्रयासरत हैं। तभी निमार्ण कार्यों की प्रगति को वह दिन-रात मॉनिटर कर रहे हैं।

मंत्री ने अस्पताल निमार्ण की जिम्मेदारी देख रही कैंट बोर्ड की मुख्य अधिशासी अधिकारी तनु जैन को निर्देश दिए हैं कि निमार्ण को जल्द पूरा कराया जाए। इसके लिए आवश्यक उपकरण, दवाएं,चिकित्सक व अन्य स्टाफ के लिए सेना अस्पताल व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से समन्वय बनाए रखें। उन्होंने कहा कि काम दो स्तर पर किया जाए। पहला अस्पताल के निमार्ण कार्य और दूसरा अस्पताल के लिए आवश्यक संसाधन की उपलब्धता। ताकि निर्माण में लग रहे समय में ही तमाम व्यवस्था हो जाए।

यह भी पढ़ें-पंचायती राज ने मांगा कोरोना संक्रमित व्यक्तियों का ब्योरा, निगरानी के साथ होगी कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग में होगी आसानी

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें