जागरण संवाददाता, देहरादून। विभिन्न तरह के एलईडी बल्ब व ट्यूब लाइट बनाने वाली फर्मों के लिए उत्पाद पर रजिस्ट्रेशन मार्क (अधिकृत) लगाने की व्यवस्था की गई है। इसके बाद भी तमाम फर्म बिना मार्क के ही उत्पाद बेच रही हैं। इसी तरह के एक मामले में भारतीय मानक ब्यूरो (बीआइएस) देहरादून की टीम ने रुड़की के रायपुर स्थित औद्योगिक क्षेत्र की इंस्टापावर लि. फर्म पर छापा मारकर माल जब्त किया।

बीआइएस के कार्यालय प्रमुख सुधीर बिश्नोई के मुताबिक इंस्टापावर लि. लंबे समय से बिना रजिस्ट्रेशन मार्क के एलईडी बल्ब व ट्यूब लाइट का निर्माण व बिक्री कर रही थी। इस संबंध में कार्यालय को शिकायत मिली थी। बुधवार को टीम की छापेमारी में शिकायत सही पाई गई। लिहाजा, फर्म से करीब एक हजार एलईडी बल्ब व ट्यूब लाइटों को जब्त किया गया। यह भी देखा जा रहा कि फर्म ने अब तक इस तरह की कितनी एलईडी की बिक्री की है। इसके लिए फर्म से तमाम दस्तावेज भी जब्त किए गए हैं। फर्म के खिलाफ भारतीय मानक ब्यूरो अधिनियम 2016 के तहत अन्य कार्रवाई भी अमल में लाई जा रही हैं। छापा मारने वाली टीम में बीआइएस विज्ञानी अजय मौर्य, नीलम सिंह, अभिजीत सिंह आदि शामिल रहे।

यह भी पढ़ें:-नर्सिंग इंचार्ज की घर में घुसकर पिटाई, एम्स परिसर में जोरदार हंगामा; ट्रामा सेंटर के बाहर बैठे धरने पर

हेलमेट विक्रेताओं की होगी जांच

बीआइएस के कार्यालय प्रमुख सुधीर बिश्नोई के मुताबिक राज्य में बिना आइएसआइ मार्क के हेलमेट भी धड़ल्ले से बेचे जा रहे हैं। जल्द ही विभिन्न हेलमेट विक्रेताओं से संपर्क कर उन्हें सजग किया जाएगा कि वह बिना आइएसआइ मार्क वाले हेलमेट की बिक्री न करें। यदि इसके बाद भी बिना मार्क वाले हेलमेट की बिक्री जारी रही तो छापेमारी कर माल जब्त करने के साथ ही वैधानिक कार्रवाई भी अमल में लाई जाएगी।

यह भी पढ़ें:-पुलिस को दें सूचना, गिरफ्त में होंगे नशा तस्कर; सूचना देने वाले की पहचान रखी जाएगी गुप्त

Edited By: Sunil Negi