देहरादून, जेएनएन। डिजिटल सिंगल लेंस रिफ्लेक्स (डीएसएलआर) कैमरा ऑनलाइन खरीदवाने के नाम पर हुई तीन लाख रुपये की धोखाधड़ी के मामले के एक बिचौलिये को वसंत विहार पुलिस ने दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया है। धोखाधड़ी से हासिल रकम में से पचास हजार रुपये इसी के खाते में पेटीएम के जरिये ट्रांसफर किए गए थे। पुलिस उससे पूछताछ कर गिरोह के अन्य सदस्यों के बारे में जानकारी जुटा रही है।

बता दें, प्यार सिंह भंडारी निवासी बी-50 ऋषि विहार ने 18 मार्च 2018 को वसंत विहार पुलिस को तहरीर दी थी। उनका आरोप था कि एक अज्ञात व्यक्ति ने डीएसएलआर कैमरा खरीदने के लिए उनके बेटे संपर्क किया। बातचीत में सौदा तीन लाख रुपये में तय होने पर अलग-अलग 12 बैंक खातों में रकम जमा कराई गई, लेकिन उसे कैमरे की डिलीवरी नहीं मिली। तब उन्हें ठगे जाने का अहसास हुआ। 

मामले में अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर पुलिस ने विवचेना शुरू की तो पता चला कि धोखाधड़ी की रकम दिल्ली, मध्य प्रदेश, मणिपुर, गुरुग्राम, मिजोरम व नागालैंड के बैंक खातों में ट्रांसफर की गई है। सभी खातों को फ्रीज कराने के बाद उन बैंक खातों की जानकारी जुटाई, जिनमें सबसे अधिक रकम जमा हुई थी। 

इसमें एक खाता आशुतोष शुक्ला पुत्र गणेश शंकर शुक्ला निवासी राधा विहार, गली नंबर 6, मुकुंदपुर, थाना बलसवा, दिल्ली के खाते में पचास हजार रुपये जमा किए गए थे। आशीष को राडार पर लेकर उसकी लोकेशन ट्रेस करनी शुरू की गई, लेकिन वह लगातार इधर-उधर भागता रहा।

गत रात उसकी लोकेशन दिल्ली में मिली, जिसके बाद दून से एसओ वसंत विहार हेमंत खंडूड़ी की अगुवाई में गई टीम ने उसे गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में आशीष ने बताया कि वह एक प्राइवेट कंपनी में काम करता था। एक अन्य व्यक्ति ने उसे मोटा कमीशन देने के लालच में उसके खाते में रकम ट्रांसफर करवाई थी।

यह भी पढ़ें: बैंक लौटाएगा साइबर ठगी के शिकार के खाते से फर्जी तरीके से निकली रकम

यह भी पढ़ें: पॉलिसी के नाम पर लोगों से करते थे ठगी, पुलिस ने किया सात लोगों को गिरफ्तार   

यह भी पढ़ें: एसओजी के नाम पर वसूली करने वाले को किया गिरफ्तार

Posted By: Bhanu

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप