राज्य ब्यूरो, देहरादून। पर्यटन सुविधाओं (Tourism Facility) के विकास और स्वरोजगार के अवसर सृजित करने के मद्देनजर राज्य में अब होम स्टे की मुहिम रफ्तार पकड़ेगी। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी (CM Pushkar Singh Dhami) की घोषणा के अनुरूप कैबिनेट ने होम स्टे योजना (Home Stay Scheme) में अधिकतम सब्सिडी 10 लाख से बढ़ाकर 15 लाख रुपये या फिर लागत का 50 फीसद जो भी अधिक हो, करने पर मुहर लगा दी है। साथ ही अब लीज की भूमि पर भी होम स्टे तैयार किए जा सकेंगे। सरकार के इस निर्णय से जहां होम स्टे के जरिये प्रदेशभर में पर्यटकों को रहने की सुविधा मिलेगी, वहीं बड़ी संख्या में स्थानीय निवासियों को रोजगार भी उपलब्ध हो सकेगा।

कोरोना महामारी के चलते प्रदेश में पर्यटन उद्योग (Tourism Industry) बुरी तरह प्रभावित हुआ है और अब इसे उबारने के लिए धामी सरकार लगातार कदम उठा रही है। इसी क्रम में कैबिनेट ने पर्यटन के क्षेत्र में रोजगार के ज्यादा से ज्यादा अवसर उपलब्ध कराने के उद्देश्य से दीनदयाल उपाध्याय गृह आवास (होम स्टे) योजना को अधिक आकर्षक बनाने का निर्णय लिया है। योजना के तहत दी जाने वाली सब्सिडी बढ़ाई गई है तो लीज की भूमि पर भी होम स्टे बनाने की अनुमति दी गई है।

यही नहीं, पर्यावरणीय दृष्टि से पर्यटक स्थलों को विकसित करने के लिए ईको टूरिज्म विंग (Eco Tourism Wing) का गठन किया गया है। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी उत्तराखंड में चल रही होम स्टे योजना की सराहना कर चुके हैं। इसे देखते हुए सरकार का इस योजना पर खास फोकस है। राज्य में अब तक 3600 से अधिक होम स्टे अस्तित्व में आ चुके हैं। पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज (Tourism Minister Satpal Maharaj) ने कहा कि अब कैबिनेट के निर्णय के बाद होम स्टे की मुहिम तेजी से आगे बढ़ेगी।

यह भी पढ़ें- सिर्फ नौ मिनट में तय होगा खरसाली से यमुनोत्री धाम तक का सफर, नहीं चढ़नी पड़ेगी खड़ी चढ़ाई; यात्रा होगी सुगम

Edited By: Raksha Panthri