जागरण संवाददाता, देहरादून : दून मेडिकल कालेज चिकित्सालय यानी दून अस्पताल में हेल्थ मैनेजमेंट इंफार्मेशन सिस्टम (एचएमआइएस) जल्द शुरू हो जाएगा। इसके शुरू होने से मरीजों को एक यूनिक आइडी दी जाएगी, जिसमें उनकी बीमारी तथा उपचार की पूरी हिस्ट्री दर्ज होगी। डाक्टर के पास आने पर मरीज की इस यूनिक आइडी को कंप्यूटर में दर्ज करते ही मरीज की सारी जानकारी सामने आ जाएगी। डाक्टरों को इससे मरीजों के इलाज में मदद मिलेगी। क्योंकि डाक्टरों को मरीज की पुरानी बीमारी से संबंधित रिपोर्ट और इलाज का पूरा ब्योरा मिल जाएगा।

मेडिकल कालेज के प्राचार्य डा. आशुतोष सयाना ने इस संदर्भ में सोमवार को सभी विभागाध्यक्षों की बैठक बुलाई है।उन्होंने बताया कि इससे मरीज की जांच रिपोर्ट डाक्टर एक क्लिक पर देख सकेंगे। दवाएं भी कंप्यूटर पर दर्ज की जाएंगी। अगर मरीज को दूसरे विभाग या फिर दूसरे संस्थान में रेफर किया जाता है, तो इसका इलेक्ट्रानिक रिकार्ड भेजना आसान हो जाएगा। साथ ही लंबे समय तक रिकार्ड सुरक्षित रहेगा।बता दें कि स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी सभी राज्यों को निर्देशित किया है कि वे अपने यहां हास्पिटल इंफार्मेशन मैनेजमेंट सिस्टम लागू करने के साथ ही यह सुनिश्चित कराएं कि अस्पतालों में डाटा बैंक तैयार किया जाए।

यह भी पढ़ें- कोरोना के हल्के लक्षण भी हैं तो वैक्सीन से पहले कराएं जांच, जानिए क्या है डाक्टरों की सालह

जिसमें मरीजों के नाम पते के साथ ही उन्हें होने वाली बीमारियों और इलाज में इस्तेमाल की जाने वाली दवाओं, पैथोलाजी जांच के बारे में भी जानकारी फीड की जाए, ताकि यदि मरीज किसी बीमारी से ग्रसित होकर दोबारा इलाज कराने आता है तो उसके बारे में सारी जानकारियां पहले से ही अस्पताल के डाटा बैंक में मौजूद हो। यदि ऐसा हो जाता है तो मरीज का इलाज करने वाले डाक्टरों को तमाम सहूलियत होगी। साथ ही केंद्र सरकार यह पता लगा सकेगी कि देश में किन बीमारियों का प्रकोप ज्यादा है और उसे रोकने को लेकर क्या किए जाने की जरूरत है।

यह भी पढ़ें- एमडी-एमएस में दाखिले को कर रहे हैं इंतजार तो ये खबर जरूर पढ़ें, शुरू होने जा रही है स्टेट काउंसलिंग

Edited By: Sumit Kumar