देहरादून, राज्य ब्यूरो। चारधाम यात्रा में इस बार सस्ती हेली सेवाओं पर एक हेली कंपनी डेक्कन को छोड़ शेष ने अपनी सहमति प्रदान कर दी है। डेक्कन कंपनी ने सिरसी से केदारनाथ के लिए तय की गई दरों पर अपनी सहमति नहीं दी है। हालांकि, दो अन्य हेली कंपनियां यहां से तय न्यूनतम दरों पर हवाई सेवा देने को तैयार है। अब 14 और 15 मई को कार्यालय महानिदेशक नागरिक उड्डयन (डीजीसीए) का परीक्षण दल हेलीपैड और हेलीकॉप्टर का निरीक्षण करेगा। उम्मीद जताई जा रही है कि 15 अथवा 16 मई से हवाई सेवाएं शुरू हो जाएंगी। 

चारधाम यात्रा के दौरान केदारनाथ और हेमकुंड साहिब के लिए हेली सेवाओं का संचालन सुनिश्चित करने के लिए उत्तराखंड नागरिक उड्डयन प्राधिकरण (यूकाडा) ने टेंडर आमंत्रित किए थे। इनमें दस कंपनियों ने टेक्नीकल बिड के बाद फाइनेंशियल बिड में हिस्सा लिया। शनिवार को फाइनेंशियल बिड खोली गई। इसमें हेली कंपनियों की ओर से दी गई न्यूनतम दरों के हिसाब से किराया का निर्धारण किया गया। 
इसके तहत इस बार सिरसी, फाटा और गोविंदघाट हेलीपैड से गत वर्ष की तुलना में कम किराया आंका गया। केवल गुप्तकाशी का किराया ही बीते वर्ष से अधिक है। यूकाडा ने हेली सेवा संचालित करने की इच्छुक कंपनियों को इन न्यूनतम दरों पर हेली सेवा संचालन करने के लिए सहमति प्रदान करने को कहा था। इसके लिए रविवार सुबह 11 बजे तक का समय दिया गया। 
हालांकि, शाम छह बजे तक स्थिति साफ हुई। केवल सिरसी-केदारनाथ मार्ग पर एक कंपनी ने तय कीमतों पर हवाई सेवा देने पर असहमति जताई। शेष सभी मार्गों पर तय किराये पर सहमति बन गई है। निदेशक यूकाडा डॉ. आर राजेश कुमार ने इसकी पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि अब 14 और 15 मई को डीजीसीए की टीमें हेलीपेड का निरीक्षण करेंगी। इनकी अनुमति मिलने के बाद हवाई सेवाओं का संचालन शुरू कर दिया जाएगा।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस