देहरादून, जेएनएन। देहरादून स्थित गांधी शताब्दी नेत्र चिकित्सालय में कार्यरत सिस्टर (नर्स) सुनीता रावत को नर्सिंग क्षेत्र का सर्वोच्च पुरस्कार राष्ट्रीय फ्लोरेंस नाइटिंगेल पुरस्कार मिला है। नर्सिंग क्षेत्र में किए गए उत्कृष्ट कार्यों के लिए उन्हें यह पुरस्कार मिला है। 

गुरुवार को नई दिल्ली स्थित राष्ट्रपति भवन में आयोजित समारोह में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सुनीता को यह पुरस्कार प्रदान किया। इंडियन नर्सिग काउंसिल की ओर से इस पुरस्कार के लिए देश के विभिन्न राज्यों की 12 एएनएम,12 नर्सिग स्टाफ और तीन लेडी हेल्थ विजिटर का चयन किया गया था, जिन्हें राष्ट्रपति भवन में आयोजित समारोह में सम्मानित किया गया। इनमें गांधी शताब्दी नेत्र चिकित्सालय में कार्यरत सिस्टर सुनीता रावत भी शामिल रहीं। 
अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. बीसी रमोला ने ने समस्त चिकित्सा स्टाफ की ओर से सिस्टर सुनीता रावत को बधाई दी है। उन्होंने कहा कि यह अस्पताल प्रबंधन के साथ ही पूरे राज्य के लिए गौरव की बात है। कहा कि सुनीता पिछले 27 साल से चिकित्सा क्षेत्र में अपनी सेवाएं दे रही है। वह अब तक लगभग 60 हजार नेत्र रोगियों के ऑपरेशन में भी सहयोग कर चुकी हैं।
गांधी अस्पताल के नेत्र रोग विभाग और महिला विंग की स्थापना में भी उनका काफी योगदान रहा है। उनकी देखरेख में अस्पताल में दो हजार से अधिक शिशुओं का जन्म और पांच हजार से अधिक नेत्र रोगियों की आंखों का सफल ऑपरेशन हो चुका है। वहीं, उत्तराखंड नर्सेज एसोसिएशन की अध्यक्ष मीनाक्षी जखमोला ने सुनीता को बधाई देते हुए कहा कि यह पूरे नर्सिंग सवंर्ग के लिए गौरव का क्षण है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस