ऋषिकेश, जेएनएन। चार धाम को रेल नेटवर्क से जोड़ने का सपना जल्द ही साकार होने वाला है। ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाइन के पहले दो स्टेशन ऋषिकेश और वीरभद्र को तैयार करने का कार्य द्रुत गति से चल रहा है। इन दोनों स्टेशन के बीच पहला ट्रायल अगले साल चार फरवरी को प्रस्तावित है। उम्मीद जताई जा रही है इस दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी ऋषिकेश पहुंच सकते हैं। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत और भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद अजय भट्ट ने परियोजना का निरीक्षण किया।

रेल विकास निगम के मुख्य परियोजना प्रबंधक हिमांशु बडोनी और संयुक्त महाप्रबंधक बीएस मसाली ने बताया कि ऋषिकेश में नया स्टेशन में 16 प्लेटफार्म तैयार करने का काम तेजी से चल रहा है। इसके अलावा ऋषिकेश से छह किलोमीटर दूर वीरभद्र में भी स्टेशन का काम करीब-करीब अंतिम चरण में है। फरवरी तक दोनों स्टेशनों के बीच रेल सेवा का ट्रायल किया जाएगा। 

निरीक्षण के बाद मीडिया से बातचीत में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने परियोजना की प्रगति पर संतोष जताया। उन्होंने कहा कि इस रेल परियोजना का लाभ गढ़वाल ही नहीं, कुमाऊं के बागेश्वर और पिथौरागढ़ जिलों को भी मिलेगा लाभान्वित होंगे।  

उन्होंने कहा कि योजना पर जो भी कार्य हो रहा है, उसकी गति और गुणवत्ता को लेकर वह पूरी तरह से संतुष्ट हैं। निश्चित रूप से इस योजना के साकार होने से उत्तराखंड के पर्यटन और तीर्थाटन में तेजी के साथ विकास होगा।

यह भी पढ़ें: सीएम रावत बोले, पलायन रोकने में मददगार साबित होगा ऋषिकेश रेलवे स्टेशन

इससे पहले मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत और सांसद अजय भट्ट ने ऋषिकेश में गूलर नामक स्थान के समीप बन रही सुरंग के ऋषिकेश रेलवे स्टेशन का जायजा लेने के साथ ही नवग्रह पूजन किया और रुद्राक्ष का पौधा भी रोपा। उन्होंने अधिकारियों के साथ बैठक कर कार्यों की समीक्षा भी की। इस मौके पर ऋषिकेश की महापौर अनीता ममगाईं, वरिष्ठ महाप्रबंधक ओपी मालगुडी, उप महाप्रबंधक भूपेंद्र ङ्क्षसह, अपर महाप्रबंधक विजय बहुगुणा भी  उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें: ऋषिकेश में जानकी सेतु के लिए अब सौ दिन का इंतजार, पढ़िए पूरी खबर

Posted By: Bhanu

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस