Move to Jagran APP

Harela पर रोपे गए एक-एक पौधे का रखा जाएगा हिसाब, देहरादून में 10 लाख से ज्यादा पौधारोपण का लक्ष्‍य

Harela 2024 मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने हरेला पर्व पर होने वाले पौधारोपण अभियान की समीक्षा की। कहा कि हरेला के अंतर्गत प्रदेशभर में वृहद स्तर पर पौधारोपण किया जाएगा। इस अभियान को सफल बनाने के लिए शासन सक्रिय हो गया है। उन्होंने सभी जिलाधिकारियों और डीएफओ से कहा कि अभिलेखीकरण की रिपोर्ट मुख्यमंत्री द्वारा अपेक्षित है। देहरादून जिले में 10 लाख से ज्यादा पौधों के रोपण का लक्ष्य है।

By kedar dutt Edited By: Nirmala Bohra Thu, 11 Jul 2024 11:17 AM (IST)
Harela 2024: जिन क्षेत्रों से अतिक्रमण हटाया गया है, वहां वृहद स्तर पर किया जाएगा पौधारोपण

राज्य ब्यूरो, जागरण देहरादून: Harela 2024: 'पर्यावरण की रखवाली, घर-घर हरियाली, लाए समृद्धि और खुशहाली', यह है 16 जुलाई को मनाए जाने वाले प्रकृति पर्व हरेला की थीम। इसके अंतर्गत प्रदेशभर में वृहद स्तर पर पौधारोपण किया जाएगा। इस अभियान को सफल बनाने के लिए शासन सक्रिय हो गया है।

मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने बुधवार को हरेला पर्व पर होने वाले पौधारोपण अभियान की समीक्षा की। उन्होंने निर्देश दिए कि इस अभियान को व्यापक जनांदोलन के रूप में लिया जाए। साथ ही जिलाधिकारियों से कार्ययोजना रिपोर्ट तलब की। उन्होंने निर्देश दिए कि हरेला पर्व पर होने वाले पौधारोपण का अभिलेखीकरण अनिवार्य रूप से किया जाए। उन्होंने सभी जिलाधिकारियों और डीएफओ से कहा कि अभिलेखीकरण की रिपोर्ट मुख्यमंत्री द्वारा अपेक्षित है।

मुख्य सचिव ने जिलाधिकारियों से कहा कि हरेला पर्व पर पौधारोपण के लक्ष्य के साथ ही नर्सरियों में पौधों की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित कर ली जाए। पौधारोपण में छोटी पौध की अपेक्षा दो वर्ष से अधिक आयु के पौधों को वरीयता दी जानी चाहिए। साथ ही लोक निर्माण विभाग से कहा कि वह सड़कों के किनारे क्रश बैरियर के स्थान पर बांस के पौधों का रोपण सुनिश्चित कराए।

मुख्य सचिव ने कहा कि जिलों में जिन स्थानों से अतिक्रमण हटाया गया है, वहां फेंसिंग कर वृहद स्तर पर पौधारोपण कराया जाना चाहिए। जिलाधिकारियों को शहरी क्षेत्रों में फेंसिंग के प्रस्ताव तत्काल भेजने के निर्देश भी उन्होंने दिए। साथ ही शहरी क्षेत्रों में नगर विकसित करने को कहा। उन्होंने सभी डीएफओ को निर्देश दिए कि वे पौधारोपण की विस्तृत जानकारी निर्धारित प्रारूप में विभाग प्रमुख को भेजेंं। उन्होंने जिलों में ग्राम पंचायतों की बैठक के दौरान भी पौधारोपण कराने पर जोर दिया। साथ ही विकास प्राधिकरणों से कहा कि वे शहरी क्षेत्रों में कंक्रीट निर्माण की अपेक्षा पौधारोपण को महत्व दें।

बैठक में जानकारी दी गई कि देहरादून जिले में 10 लाख से ज्यादा और हरिद्वार में दो लाख पौधों के रोपण का लक्ष्य रखा गया है। वन विभाग की ओर से बताया गया कि वन क्षेत्रों में पौधारोपण का कार्य प्रारंभ हो गया है। यह लगभग 20 प्रतिशत हो चुका है। विभागीय पौधारोपण के अलावा हरेला कार्यक्रम को लेकर जानकारी दी गई कि जिला स्तर पर गठित समितियों के साथ बैठकें की जा चुकी हैं।

हरेला पर्व पर पौधारोपण के लिए स्थल भी चयनित किए जा चुके हैं। केंद्र सरकार के निर्देशों का उल्लेख करते हुए बैठक में बताया गया कि विभागीय पौधारोपण, वृहद पौधारोपण व हरेला पर्व पर होने वाले पौधारोपण में एक पेड़ मां के नाम का प्रयोग किया जाना है। बैठक में प्रमुख सचिव वन रमेश कुमार सुधांशु, अपर सचिव विनीत कुमार समेत वन विभाग के आला अधिकारी मौजूद थे, जबकि सभी जिलाधिकारी वर्चुअल माध्यम से जुड़े।