देहरादून, जेएनएन। पहाड़ में बदरीनाथ और केदारनाथ धाम समेत ऊंची चोटियों पर को बर्फबारी से जनजीवन फिर प्रभावित हुआ। आधा दिन तक मौसम साफ रहा, लेकिन बाद में बादल छाने लगे और शाम को बर्फबारी शुरू हो गई।

चमोली जिले में बीते कुछ दिनों से मौसम का मिजाज सामान्य था। गर्मी शुरू होने के बाद लोगों ने गर्म कपड़े पहनने बंद कर दिए थे। लेकिन अचानक मौसम का मिजाज बदलने से फिर गर्म कपड़े बाहर निकल गए हैं। जिले के बदरीनाथ धाम, हेमकुंड साहिब के अलावा ऊंची चोटियों पर रुक रुककर हिमपात होता रहा। मुख्यालय गोपेश्वर व अन्य इलाकों में सायं को बूंदाबांदी भी हुई। हालांकि उसके बाद तेज हवा आने के चलते बारिश बंद हो गई। 

जिले में सुबह के समय मौसम साफ था, लेकिन शाम को आसमान में बादल छा गए और देखते ही देखते केदारनाथ धाम समेत ऊंची चोटियों पर हल्की बर्फबारी शुरू हो गई, जो देर शाम तक जारी रही है। बर्फबारी होने से धाम का मौसम काफी ठंडा होगा। वहीं, धाम में चल रहे पुनर्निर्माण कार्य पिछले एक माह से बंद पड़े हुए हैं। वहीं, जिला मुख्यालय समेत कई स्थानों पर शाम बारिश हुई, जिससे मौसम ठंडा हो गया। 

 उधर, कर्णप्रयाग में आंधी-तूफान के चलते विवाह समारोह की तैयारियों व मेजबानों के आगमन की प्रतीक्षा कर रहे लोगों को परेशानियां उठानी पड़ी। इसी तरह क्षेत्र के ऊंचाई वाले स्थानों नौटी, नंदासैंण, पिंडवाली, बड़ेथ, कपीरी पट्टी के छातेंश्वर, नैनीसैंण, आदिबदरी सहित गैरसैंण, देवाल विकासखंड के ऊंचाई पर बसात गांवों में मौसम के एकाएक बदलने से सर्द हवाओं का दौर शुरू हो गया।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में पहाड़ से मैदान तक मौसम हुआ साफ, बारिश और बर्फबारी से राहत

यह भी पढ़ें: मौसम से राहत मिलने की नहीं उम्‍मीद, मसूरी में हुई बारिश और गिरे ओले

Posted By: Sunil Negi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप