देहरादून, जेएनएन। उत्तराखंड बेरोजगार संगठन ने हाल ही में हुई वन आरक्षी परीक्षा में धांधली पर विरोध दर्ज कराया। साथ ही परीक्षा को रद कर सौ दिन के भीतर दोबारा परीक्षा कराने की मांग की। इस मांग को लेकर उन्होंने बेमियादी अनशन भी शुरू कर दिया है। युवाओं का कहना है कि अगर सरकार मांग नहीं मानती है तो वह आंदोलन को और तेज कर देंगे।

परेड ग्राउंड स्थित धरना स्थल पर उत्तराखंड बेरोजगार संगठन का धरना बुधवार को भी जारी रहा। बेरोजगार संगठन के अध्यक्ष बॉबी पंवार, संरक्षक पीसी पंत और सचिव सरिता अनशन पर बैठे। उन्होंने कहा कि वन आरक्षी परीक्षा 100 दिन के भीतर पूर्ण पारदर्शिता के साथ कराई जाए। कहा कि इस मुद्दे को लेकर संगठन गत 17 फरवरी से आंदोलन कर रहा है। 

परीक्षा में हुई धांधली को देखते हुए इसे रद कर दोबारा कराया जाना चाहिए। संगठन के अध्यक्ष बॉबी पंवार ने कहा कि पूर्व में हुई वार्ता में आयोग ने कहा था कि यदि पेपर लीक होने की पुष्टि होती है तो तत्काल परीक्षा को रद किया जाएगा। कहा कि परीक्षा धांधली में शामिल आठ लोगों को अब तक हरिद्वार पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है। 

उन्होंने कहा कि यदि इसके बाद भी मांग पर कार्रवाई नहीं हुई तो युवा सड़कों पर उतरकर आंदोलन करेंगे।  धरने में पंकज रावत, राजेंद्र नेगी, शिखा उनियाल, गौरी, शिखा कंडवाल, सुशील कैंतुरा, सबल चौहान, मनोज ध्यानी, लक्ष्मीप्रसाद थपलियाल, सुरेश सिंह, कमलेश भट्ट, मनीष टम्टा, रवि राज, प्रवेश जोशी, जगमोहन बिजल्वाण, नरेश, रॉबिन चौहान, प्रदीप चौहान आदि मौजूद रहे।

कोचिंग सेंटर के पास गड्ढा बनाकर छिपाए थे ई-उपकरण

नकल कराने वाले गिरोह के मुख्य आरोपित की निशानदेही पर पुलिस ने नकल में प्रयुक्त हुए कई मोबाइल और इलेक्ट्रॉनिक्स उपकरण बरामद किए हैं। आरोपित ने कोङ्क्षचग सेंटर के पास जमीन में गड्ढा खोदकर इन उपकरणों को छिपाया था। इसके अलावा पुलिस टीम उसे सलेमपुर स्थित उस जगह पर भी ले गई। जहां पर उसने नकल कराने का कंट्रोल रूम बनाया था। साथ ही गिरोह से जुड़े अन्य लोगों के बारे में भी पूछताछ की गई।

बुधवार सुबह दस बजे गिरोह के मुख्य आरोपित मुकेश सैनी को पुलिस ने पुलिस कस्टडी रिमांड पर लिया था। पुलिस की टीम उसे लेकर नारसन स्थित उसके कोचिंग सेंटर पर पहुंची। कोचिंग सेंटर में खड़ी उसकी सफारी कार के पीछे कुछ ईंटों का ढेर था। आरोपित की निशानदेही पर पुलिस ने उन ईंटों के नीचे एक गड्ढे में छिपाकर रखे गए नकल कराने के उपकरण बरामद किए। पुलिस ने बताया कि आरोपित की निशानदेही पर काफी सामान मिला है। 

इसके अलावा पुलिस टीम उसे सलेमपुर स्थित एक फैक्ट्री में बनाए कमरे में पहुंची। जहां पर मुकेश सैनी ने परीक्षा में नकल कराने का कंट्रोल रूम बनाया था। किस तरह से पूरी योजना तैयार की गई, इस योजना में और कौन लोग शामिल थे इसके बारे में पुलिस ने पूछताछ की है। एसपी देहात स्वप्न किशोर सिंह ने बताया कि मुख्य आरोपित की निशानदेही पर नकल कराने के उपकरण बरामद किए हैं। एसपी देहात ने बताया कि आरोपित से की गई पूछताछ के बाद अन्य जगहों पर दबिश भी दी जा रही है।

गौरतलब है कि प्रदेश में 16 फरवरी को वन आरक्षी भर्ती परीक्षा आयोजित हुई थी। नारसन के ओजस कोचिंग सेंटर के संचालक मुकेश सैनी ने बीएसएम इंटर कॉलेज में बनाए गए सेंटर के कक्ष निरीक्षक रचित पुंडीर से पेपर लीक कराया था। इसके बाद गिरोह के लोगों ने परीक्षा में कई अभ्यर्थियों को नकल कराई थी। मंगलौर और पौड़ी पुलिस ने इस मामले में मुकदमे दर्ज किए थे। इस मामले में अब तक 12 लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है।

यह भी पढ़ें: फॉरेस्ट गार्ड भर्ती परीक्षा को लेकर रोजाना सामने आ रहे नए तथ्य

निशानदेही पर बरामद हुआ सामान

  • सामान------------संख्या
  • मोबाइल------------8
  • ब्लूटूथ-------------8
  • डिवाइस-----------10
  • मोबाइल बैटरी-----8
  • मोबाइल चार्जर-----3
  • ईयर फोन-----------6
  • सेल------------------3
  • पेपर की नकल----1 

यह भी पढ़ें: Forest guard recruitment Exam: वन मंत्री का आवास घेरने जा रहे बेरोजगार हुए गिरफ्तार

 

Posted By: Sunil Negi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस