संवाद सूत्र, चकराता (देहरादून): जिले के सीमावर्ती क्षेत्र बायला गांव से विकासनगर आ रहा ओवरलोड यूटिलिटी वाहन दुर्घटनाग्रस्त होकर गहरी खाई में गिर गया। इसमें सवार 13 लोगों की मौत हो गई, जबकि पांच साल के बच्चे समेत दो गंभीर रूप से घायल हो गए। मृतकों में वाहन स्वामी, उनकी पत्नी और एक साल की बच्ची समेत 11 लोग एक ही गांव के रहने वाले थे। हादसे के असल कारण अभी सामने नहीं आए हैं। प्रथमदृष्टया तीव्र मोड़ पर चालक का वाहन पर संतुलन खोना बताया जा रहा है। संभागीय परिवहन विभाग की तकनीकी टीम कारणों की पड़ताल कर रही है।

जिला मुख्यालय से करीब 150 किलोमीटर दूर चकराता तहसील क्षेत्र में रविवार सुबह करीब आठ बजे यह हादसा हुआ। बायला गांव से यूटिलिटी सवार लोग विकासनगर के लिए चले। छह सवारियों और एक टन माल ले जाने के परमिट वाले इस वाहन में 15 लोग सवार थे। सवारियों की संख्या के लिहाज से यह ओवरलोड थी। हालांकि, वाहन में सामान नहीं लदा था।

वाहन स्वामी मातबर सिंह खुद इसे चला रहा था। उसकी पत्नी और बच्ची भी इसमें सवार थी। गांव के सभी लोग त्योहार का सामान लेने के लिए विकासनगर आ रहे थे। गांव से करीब 200 मीटर दूर पिंगुवा-बायला मार्ग पर वाहन अनियंत्रित होकर पैराफिट तोड़ता हुआ चार सौ मीटर गहरी खाई में जा गिरा। वाहन के परखच्चे उड़ गए।

घटना का पता चलने पर आसपास के ग्रामीण मौके पर पहुंचे और रेस्क्यू में जुट गए। कुछ देर बाद प्रशासन की टीम भी वहां पहुंच गई। तब तक एक बच्चे समेत दो घायलों को ग्रामीण खाई से रेस्क्यू कर उपचार के लिए ले जा चुके थे। हादसे में 13 सवारियों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। इनमेें बायला गांव के दो परिवारों के छह सदस्यों समेत 11 लोग शामिल हैं। दो अन्य मृतकों में एक क्वानू-मलेथा और दूसरा हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले के खडकांव का निवासी था। राज्य आपदा मोचन बल, राजस्व विभाग और पुलिस टीम ने ग्रामीणों की मदद से किसी तरह शव खाई से बाहर निकाले। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बुल्हाड़ में सभी का पोस्टमार्टम कराया गया। इधर, घटना से बायला गांव में मातम छाया हुआ है।

प्रधानमंत्री ने किया मुआवजे का एलान

देहरादून: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वाहन दुर्घटना के मृतकों के स्वजन को दो-दो लाख रुपये और घायलों को 50-50 हजार रुपये देने की घोषणा की है। यह राशि प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष (पीएमएनआरएफ) से दी जाएगी। वहीं, मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने दुर्घटना पर शोक जताते हुए घटना की मजिस्ट्रेटी जांच के निर्देश दिए हैं। उन्‍होंने मृतक आश्रितों को 50-50 हजार व गंभीर रूप से घायलों को 25-25 हजार रुपये सहायता राशि मुख्‍यमंत्री राहत कोष से देने के निर्देश दएि हैं। इधर, गृह मंत्री अमित शाह ने भी ट्वीट कर मृतकों के स्वजन के प्रति संवेदना जताई।

सीएम ने जताया दुख

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने चकराता क्षेत्र के अंतर्गत बुल्हाड़-बायला मार्ग पर हुई वाहन दुर्घटना पर गहरा शोक व्यक्त किया है। उन्होंने ईश्वर से मृतकों की आत्मा को शांति और स्वजन को दुख सहने की शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना की है। मुख्यमंत्री ने जिला प्रशासन को तेजी से राहत व बचाव कार्य करते हुए घायलों को तत्काल उपचार उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि घायलों के उपचार के लिए एवं मृतकों के स्वजन को राज्य सरकार द्वारा हर संभव मदद दी जाएगी। कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी, आयुक्त गढ़वाल एवं जिलाधिकारी देहरादून घटना स्थल के लिए रवाना हो चुके हैं। मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारी देहरादून को वाहन दुर्घटना की मजिस्ट्रीयल जांच के निर्देश दिए हैं। उन्होंने परिवहन विभाग को सख्त निर्देश दिए हैं कि वाहनों में ओवर लोडिंग न हो। यदि इस तरह की कोई बात आती है, तो संबधित अधिकारी पर कड़ी कारवाई की जाए।

इनकी हुई पहचान

बायला के क्षेत्र पंचायत सदस्य महेंद्र सिंह चौहान ने कहा हादसे में मृतकों की पहचान मातबर सिंह (40) पुत्र भगत सिंह, पत्नी रेखा देवी (32) और डेढ़ वर्षीय पुत्री तनवी, रतन सिंह (45) पुत्र रतराम, जयपाल सिंह चौहान (40) पुत्र भाव सिंह, अंजलि (15) पुत्री जयपाल सिंह चौहान, नरेश चौहान (35) पुत्र भाव सिंह, साधराम (55) पुत्र गुलाब सिंह, दान सिंह (50) पुत्र रतू, ईशा(18) पुत्री गजेंद्र, काजल (17) पुत्री जगत वर्मा सभी निवासी बायला-चकराता, जीतू (35) पुत्र नामालूम निवासी क्वानू-मलेथा व हरिराम शर्मा (48) पुत्र नामालूम निवासी सिरमौर हिमाचल समेत तेरह लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। इसके अलावा घायलों में स्थानीय निवासी दो लोग शामिल हैं।

यह भी पढ़ें- देहरादून: छुट्टी काटकर वापस लौट रहे फौजी समेत दो बाइक सवारों को तेज रफ्तार डंपर ने रौंदा, मौत

Edited By: Raksha Panthri