जागरण संवाददाता, देहरादून। आनलाइन शापिंग कंपनी फ्लिपकार्ट से जुड़ी ईकार्ट कंपनी के दो डिलीवरी ब्वाय ने आनलाइन पेमेंट से मंगवाया गया समान डिलीवर करने के बजाय राह चलते लोग को औने-पौने दाम पर बेच दिया। कैश आन डिलीवरी से मिला कैश भी लेकर नए साल का जश्न मनाने निकल गए। ईकार्ट कंपनी के निदेशक की शिकायत पर पुलिस ने दोनों डिलीवरी ब्वाय को गिरफ्तार कर लिया।

ईकार्ट कंपनी के निदेशक शास्त्री नगर निवासी राजेश मैठाणी ने थाना नेहरू कालोनी में तहरीर दी थी। जिसमें बताया कि 28 दिसंबर को विकास शर्मा निवासी बापूनगर, राजपुर और सिद्धार्थ निवासी आर्यनगर, डालनवाला काम मांगने के लिए आए थे। दोनों को डिलीवरी ब्वाय के पद पर रख लिया गया। 30 दिसंबर को दोनों युवकों को सामान की डिलीवरी करने के लिए भेजा। इसमें कुछ सामान ऐसा था, जिसकी पहले ही आनलाइन पेमेंट हो रखी थी, जबकि कुछ ग्राहकों से पेमेंट ली जानी थी।

पता चला है कि कुछ सामान डिलीवर नहीं किया गया है, जो सामान डिलीवर किया गया है उसके पैसे भी कंपनी में जमा नहीं कराए गए हैं। दोनों से संपर्क भी नहीं हो पा रहा है। आशंका है कि दोनों करीब डेढ़ लाख रुपये का सामान लेकर फरार हो गए हैं। नेहरू कालोनी थाना पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी। जिसके बाद मामले का पर्दाफाश हुआ। जांच अधिकारी चौकी प्रभारी डिफेंस कालोनी चिंतामणि मैठानी ने बताया कि दोनों युवकों को सोमवार को मोथरोवाला पुल से गिरफ्तार किया गया।

पूछताछ में आरोपितों ने बताया कि उनके पास जो डिलीवरी के लिए सामान था। उसमें कुछ की आनलाइन पेमेंट हो रखी थी। वह सामान उन्होंने सस्ते दामों पर राह चलते लोग को बेच दिया। कैश आन डिलीवरी से मिला पैसा वह फरार हो गए। नए साल पर होटलों में खाना खाया और खरीदारी की। चौकी इंचार्ज ने बताया कि आरोपित कुछ सामान बेचने के लिए हरिद्वार व नजीबाबाद की तरफ जा रहे थे। सामान बेचकर उनका दिल्ली जाने की योजना थी। आरोपितों को कोर्ट के समक्ष पेश किया गया, जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया है।

यह भी पढ़ें- ऋषिकेश में रात 10 बजे के बाद तेज आवाज में म्यूजिक बजाना पड़ा भारी, पुलिस ने छापा मार की ये कार्रवाई

Edited By: Raksha Panthri