देहरादून, राज्य ब्यूरो। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के नगर निकाय चुनाव में बेहतर प्रदर्शन के दावे को जिला और महानगर कांग्रेस कमेटियों की रिपोर्ट ने पुख्ता कर दिया है। सूबे की प्रमुख प्रतिपक्षी पार्टी का कहना है कि उसने नगरपालिका परिषदों के अध्यक्ष पदों पर तो सत्तारूढ़ दल भाजपा को पीछे छोड़ा ही, 423 पार्षदों को बटोरकर उसे धकेल दिया है। 

निकायों में इस अच्छे-खासे संख्याबल की इस रिपोर्ट के बूते प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने सरकार और भाजपा की ऐतिहासिक जीत के दावे को चुनौती दी। साथ ही आरोप लगाया कि कई निकायों में कांग्रेस प्रतिनिधियों को हराने के लिए सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग किया गया है। 

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह राजीव भवन में नगर निकाय चुनाव में जिला और महानगर कांग्रेस कमेटियों की रिपोर्ट के साथ पत्रकारों से रूबरू हुए। उन्होंने कहा कि नगर निकाय चुनाव में पार्टी का प्रदर्शन अच्छा रहा है। कुल 39 नगरपालिका परिषदों में अध्यक्ष पद पर कांग्रेस ने 16 में जीत हासिल की, जबकि भाजपा को सिर्फ 12 सीट मिली हैं। 

नगर निगम और नगर पंचायत में भाजपा की बढ़त पर उनका कहना है कि नगर निगम में पहली बार कांग्रेस ने दो अहम सीट जीती हैं। उन्होंने कहा कि निगमों, पालिका परिषदों और नगर पंचायतों में पार्षदों, सभासदों व वार्ड सदस्यों में कांग्रेस का प्रदर्शन उम्दा रहा। 

पार्टी ने 1064 सीट में से 423 सीटें जीती हैं, जबकि भाजपा को सिर्फ 323 सीटें मिली हैं। पार्षद सीटों पर विजयी 204 निर्दलीयों को बगैर सिंबल के चुनाव लड़ने वाले कांग्रेसी बताया है। 

उन्होंने बताया कि पार्टी ने राज्य के कुल 13 प्रशासनिक जिला मुख्यालयों में से सात पर जीत दर्ज, जबकि भाजपा को सिर्फ चार सीट मिल पाई हैं। दो सीटों पर कांग्रेस के बागी बतौर निर्दलीय जीते हैं। 

प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि पार्टी ने कई सीटों खासतौर पर पार्षद सीटों पर बगैर सिंबल के प्रत्याशी खड़े किए थे। उन्होंने बताया कि 219 पार्षद पार्टी सिंबल और 204 बगैर सिंबल के विजयी हुए हैं। 

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने सरकार और सत्तारूढ़ दल पर निकाय चुनाव खासतौर पर मतगणना में गड़बड़ी का आरोप लगाया। इस संबंध में ऊधमसिंहनगर जिले में गूलरभोज निकाय सीट का हवाला दिया। उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस प्रत्याशी को हराने के लिए जानबूझकर दोबारा मतगणना कराई गई। 

एक सवाल के जवाब में उन्होंने अंदेशा जताया कि भाजपा डरा-धमकाकर निकायों के निर्दलीय जन प्रतिनिधियों को अपने पाले में खींचने की कोशिश कर सकती है। सत्र में कांग्रेस बनाएगी मुद्दा एक सवाल के जवाब में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने गैरसैंण में स्थायी राजधानी और विधानसभा सत्र के आयोजन के मुद्दे पर भाजपा पर दोहरा रवैया अपनाने का आरोप लगाया। 

उन्होंने कहा कि गैरसैंण में कांग्रेस सरकार ने इन्फ्रास्ट्रक्चर विकसित किया था। उन्होंने कहा कि विधानसभा के शीतकालीन सत्र में गैरसैंण, निकाय चुनाव में गड़बड़ी समेत कई मुद्दे उठाए जाएंगे। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने नगर निकाय चुनाव नतीजों की रिपोर्ट के जरिये पार्टी के बाहर ही नहीं, बल्कि पार्टी के भीतर विरोधियों पर भी निशाना साधा। 

बीते दिनों पूर्व मुख्यमंत्री एवं पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव हरीश रावत के साथ ही उनके खेमे से जुड़े माने जाने वाले कुछ नेताओं ने निकाय चुनाव में पार्टी के प्रदर्शन पर अंगुली उठाई थी। जिला कांग्रेस और महानगर कांग्रेस से मिली रिपोर्ट को प्रीतम ने जिस अंदाज में सामने रखा, उसे विरोधियों के जुबानी हमले का आंकड़ों के जरिये जवाब माना जा रहा है। बीते रोज दिल्ली में प्रदेश प्रभारी अनुग्रह नारायण सिंह प्रदेश में निकाय चुनाव में पार्टी के प्रदर्शन को सराह चुके हैं। 

निकाय चुनाव नतीजों पर कांग्रेस की रिपोर्ट 

निकाय--------------------कुल पद-----कांग्रेस-----भाजपा---अन्य 

मेयर-------------------------07-----------02--------05-------0 

पालिका परिषद अध्यक्ष---39-----------16--------12-------11 

नगर पंचायत अध्यक्ष------38-----------10--------17-------11 

पार्षद, वार्ड सदस्य-------1064----------423------323-----318

यह भी पढ़ें: आज संसद भी गंगा की तरह हो गई है प्रदूषित : डॉ. मुरली मनोहर जोशी

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान को अपना नाम आतंकिस्तान कर लेना चाहिए: शाहनवाज हुसैन

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में जल्द हो सकता है त्रिवेंद्र के मंत्रिमंडल का विस्तार

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस