देहरादून, [जेएनएन]: दून शहर को 24 घंटे के भीतर साफ करने के हाईकोर्ट के आदेश के बाद रविवार और सोमवार को सरकारी मशीनरी यहां से वहां दौड़ती रही। शहर में युद्धस्तर पर स्वच्छता अभियान चलाया गया। दो दिन में प्रशासन और नगर निगम की टीमों ने लगभग 710 मीट्रिक टन कूड़े का उठान कराया, जबकि आम दिनों में प्रतिदिन 250 मीट्रिक टन का ही उठान होता है। जिलाधिकारी एसए मुरुगेशन के साथ नगर आयुक्त विजय जोगदंडे यहां से वहां शहर का चक्कर लगाकर सफाई व्यवस्था सुचारू चलने का निरीक्षण करते रहे। शहर के 60 वार्ड में जिला प्रशासन की ओर से नियुक्त 60 पर्यवेक्षकों ने अपने क्षेत्रों में मोर्चा संभाले रखा और सफाई निरीक्षकों व सुपरवाइजरों से रिपोर्ट लेते रहे। प्रशासन पूरी कार्य-योजना की रिपोर्ट तैयार करा रहा है। पर्यवेक्षकों ने सोमवार को जिलाधिकारी को रिपोर्ट सौंप दी। मंगलवार को यह रिपोर्ट हाईकोर्ट में रखी जाएगी। 

हाईकोर्ट ने देहरादून निवासी जतिन की जनहित याचिका पर प्रशासन व नगर निगम को चौबीस घंटे में दून शहर को पूरी तरह साफ करने के आदेश शुक्रवार को दिए थे। इस आदेश के क्रम में शनिवार को प्रशासन व नगर निगम के अधिकारियों ने पूरा दिन कार्य-योजना बनाई और शाम से शहर का भ्रमण कर सफाई-व्यवस्था का काम शुरू कराया। हालांकि, कार्य में द्वितीय शनिवार व रविवार की छुट्टी भी आड़े आई। सभी विभागों के आला अधिकारी तो डयूटी पर पहुंच गए लेकिन ज्यादातर कर्मचारी छुट्टी का आनंद लेते रहे।

पर्यवेक्षक अधिकारियों की टोली पूरा दिन अपने वार्डों में स्वच्छता का जायजा लेते रहे। जहां गंदगी और कूड़े का ढेर मिला, वहीं ट्राली मंगा कूड़ा उठान कराया। जिलाधिकारी ने सार्वजनिक स्थलों और शैक्षणिक संस्थानों, अस्पतालों में पूर्ण रूप से कूड़ा उठान के आदेश दिए। बहल चौक पर निरीक्षण के दौरान खाली प्लाट में कूड़ा मिलने पर जिलाधिकारी की ओर से तत्काल ट्राली मंगाकर कूड़ा उठान कराया गया। 

बहल चौक पर लेफ्ट टर्न होगा फ्री 

जिलाधिकारी ने बहल चौक के कूड़ादान समीप फैले कूड़े व गैर-जरूरी सामान को हटाने व फुटपाथ के किनारे रेलिंग लगाने के निर्देश दिए। इसके साथ ही बहल चौक पर लेफ्ट टर्न फ्री करने के निर्देश दिए गए। उनके निर्देश के बाद ही लोनिवि ने लेफ्ट टर्न फ्री करने का काम शुरू कर दिया। इस दौरान जिलाधिकारी ने वहां सौंदर्यीकरण के कार्य करने के निर्देश भी दिए। कूड़ेदान के पास सीसीटीवी कैमरे लगाने के निर्देश भी नगर निगम अधिकारियों को दिए गए। साथ ही बहल चौक पर उबड़-खाबड़ भूमि को तत्काल समतल करने के निर्देश दिए। नगर निगम ने जेसीबी लगाकर समतलीकरण का कार्य किया। जिलाधिकारी ने सड़क किनारे लगे अवैध होर्डिंग को भी हटाने के निर्देश दिए, जिस पर टीम ने सड़क एवं फुटपॉथ पर लगे होर्डिंग व बोर्ड हटा दिए। 

150 वाहनों से उठाया 360 मीट्रिक टन कूड़ा 

सोमवार को युद्धस्तर पर चलाए अभियान में नगर निगम ने 150 वाहनों से तकरीबन 360 मीट्रिक टन कूड़ा उठाया। हालात, ये हो गए कि कूड़ा ट्रांसफर स्टेशन कारगी में बुरा हाल हो गया। वाहनों की लाइन लगी देख नगर आयुक्त ने कूड़ा वाहनों को सीधे शीशमबाड़ा प्लांट में कूड़ा डंप करने का आदेश दिया गया। रोजाना शहर से करीब 250 मीट्रिक टन कूड़ा प्लांट में भेजा जाता है, लेकिन पिछले दो दिनों में करीब 710 मीट्रिक टन कूड़ा भेजा गया। नगर आयुक्त ने बताया कि निगम ने अपने सभी वाहनों सहित 48 वाहन बाहर से भी इस कार्य में लगाए हैं।   

जिलाधिकारी के सामने फुटपाथ पर चलाता रहा स्कूटर 

बहल चौक पर जब जिलाधिकारी पूरे लाव-लश्कर के साथ खड़े थे, तभी एक व्यक्ति फुटपाथ पर स्कूटर चलाकर उनके पास तक पहुंच गया। जिलाधिकारी ने उसे रोका तो बोला कि 'आप कौन हो। मैं तो यहां रोज आता हूं।' उसने बताया कि इस खाली प्लॉट में उसके पशु रहते हैं। बाद में उसे पता चला कि सामने जिलाधिकारी हैं तो वह गिड़गिड़ाने लगा। जिलाधिकारी ने उसे चेतावनी देकर छोड़ दिया। 

जिलाधिकारी एसए मुरुगेशन ने बताया कि प्रशासन की ओर से हाईकोर्ट के आदेश के क्रम में शहर में सफाई का कार्य कराने का अभियान युद्धस्तर पर चलाया गया है। उपलब्ध मानव-शक्ति व संसाधनों के जरिए जो अधिक से अधिक संभव है, वह जिला प्रशासन और नगर निगम कर रहा है। पूरी रिपोर्ट मंगलवार दोपहर हाईकोर्ट के समक्ष रखी जाएगी।

यह भी पढ़ें: सीएम ने हरिद्वार नगर निगम के अधिकारियों को लगार्इ कड़ी फटकार, ये है वजह

यह भी पढ़ें: 'अंधेर' नगर निगम, 'चौपट' सफाई व्यवस्था, स्वच्छता सर्वेक्षण ने खोली पोल

यह भी पढ़ें: कोर्ट कमिश्नर ने देखी हरिद्वार में गंगा घाटों पर सफाई की हकीकत

 

Posted By: Raksha Panthari