जागरण संवाददाता, देहरादून: राज्य में अब आयुष्मान कार्ड बनवाने का कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा। अभी तक कार्ड बनाने के लिए 30 रुपये शुल्क लगता था। प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (आयुष्मान भारत) की तीसरी वर्षगांठ पर आयोजित 'आरोग्य मंथन-3.0Ó में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने यह घोषणा की। उन्होंने कहा कि योजना के तहत सभी अस्पतालों का भुगतान एक सप्ताह के भीतर किया जाएगा। आयुष्मान योजना के तहत अच्छा कार्य कर रहे 12 अस्पतालों के प्रतिनिधियों को भी उन्होंने सम्मानित किया।

राज्य स्वास्थ्य प्राधिकरण की ओर से दून के एक होटल में हुई कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश को स्वास्थ्य के क्षेत्र में विश्व की सबसे बड़ी योजना दी है। उन्होंने कहा कि इस योजना का आमजन को सीधा लाभ मिल रहा है। एक वक्त था, जब अस्पताल में कोई व्यक्ति भर्ती होता था तो परिवार की आॢथकी बिगड़ जाती थी। व्यक्ति को अपनी जमीन, जेवर तक गिरवी रखने पड़ते थे। ऐसे में यह योजना असहाय लोग का सहारा बनी है। इसमें जो भी छिटपुट खामियां हैं, उन्हेंं साथ मिलकर दूर किया जाएगा। सीएम ने कहा कि इस योजना के तहत अभी तक प्रदेश में करीब 3.5 करोड़ लोग सूचीबद्ध सरकारी व निजी अस्पतालों में इलाज करा चुके हैैं। जिस पर 460 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं।

स्वास्थ्य मंत्री डा. धन सिंह रावत ने कहा कि पर्वतीय क्षेत्रों में निजी अस्पताल खोलने पर सरकार मानकों में शिथिलता प्रदान करने के साथ ही आॢथक सहयोग भी करेगी। ऐसे अस्पतालों के लिए एडवांस सब्सिडी दी जाएगी। उन्होंने कहा कि जल्द सभी हितधारकों से विमर्श कर यह प्रस्ताव कैबिनेट में लाया जाएगा। इससे अस्पताल विहीन दूरस्थ क्षेत्रों को लाभ होगा और आयुष्मान का दायरा भी बढ़ेगा। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि आयुष्मान योजना के प्रचार-प्रसार के लिए सभी सूचीबद्ध अस्पतालों में इससे संबंधित बोर्ड लगाने अनिवार्य कर दिए गए हैैं। आयुष्मान कार्ड से वंचित व्यक्तियों के लिए विभाग ब्लाक स्तर पर शिविर लगाए जाएंगे। इस अवसर पर योजना के लाभाॢथयों व विभिन्न अस्पतालों ने प्रतिनिधियों ने अपने अनुभव साझा करने के साथ ही कई अहम सुझाव भी दिए।

कार्यक्रम में महापौर सुनील उनियाल गामा, विधायक विनोद चमोली, स्वास्थ्य सचिव अमित नेगी, प्रभारी सचिव पंकज कुमार पांडेय, राज्य स्वास्थ्य प्राधिकरण के अध्यक्ष डीके कोटिया, सीईओ अरुणेंद्र चौहान आदि मौजूद रहे। संचालन जेसी पांडे ने किया।

यह भी पढ़ें:- Eye Collection Center: गांधी शताब्दी अस्पताल में बनेगा 'आई क्लेक्शन सेंटर', मिलेंगी ये सुविधाएं

Edited By: Sunil Negi