देहरादून, जेएनएन। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआइ) की जो विज्ञान शाखा वर्ष 1921 से देश-विदेश की तमाम धरोहरों की केमिकल ट्रीटमेंट का कार्य कर रही है, वह करीब 98 साल बाद दून से विदा हो जाएगी। एएसआइ के मुख्यालय की तरफ से जारी किए गए आदेश में कार्यालय को 30 नवंबर तक ग्रेटर नोएडा शिफ्ट करने को कहा गया है। सितंबर माह में जब से यह आदेश जारी किया गया, तभी से संस्थान के कार्मिक परेशान हैं और वह नहीं चाहते हैं कि दून की पहचान बन चुके इस ऐतिहासिक कार्यालय को यहां से शिफ्ट किया जाए।

देहरादून के हाथीबड़कला में विज्ञान शाखा का निदेशक कार्यालय व प्रयोगशाला करीब 10 बीघा क्षेत्रफल में स्थापित है। वर्ष 2013 की आपदा के बाद जब केदारनाथ मंदिर की स्थिति खराब हो चुकी थी, तब इस शाखा ने मंदिर में केमिकल ट्रीटमेंट का कार्य कर इसकी सूरत संवारने का काम किया था। 

इसके अलावा विज्ञान शाखा देश व देश से बाहर तमाम ऐतिहासिक धरोहरों में केमिकल ट्रीटमेंट का कार्य करती रहती है। हालांकि, जून माह में नए निदेशक के रूप में रामजी निगम की तैनाती के बाद से ही कार्यालय की शिफ्टिंग ने जोर पकड़ना शुरू कर दिया था। पहले यह कहा जा रहा था कि सिर्फ प्रयोगशाला को यहां से शिफ्ट किया जाएगा, मगर कुछ दिन बाद ही एक आदेश आया कि पूरे कार्यालय को ग्रेटर नोएडा में शिफ्ट किया जाना है। 

इसको लेकर यहां के कार्मिक परेशान नजर आ रहे हैं और दबी जुबान में इस निर्णय की खिलाफत भी कर रहे हैं। इस मामले में निदेशक रामजी निगम का कहना है कि मुख्यालय से शिफ्टिंग का आदेश मिलने के बाद से ही प्रयोगशाला आदि की शिफ्टिंग का काम शुरू कर दिया गया है। प्रयास किए जाएंगे कि तय समय के भीतर कार्यालय को स्थानांतरित कर दिया जाए। 

हालांकि, निदेशक ने इस बात पर अनभिज्ञता जताई कि शिफ्टिंग के बाद इस संपत्ति का क्या होगा। क्योंकि यह संपत्ति एएसआइ की है और इस तरह की कोई संभावना भी नहीं दिख रही कि यहां विज्ञान शाखा का ट्रांजिट कार्यालय भी अस्तित्व में रहेगा।

रामजन्म भूमि के अवशेषों की रिपोर्ट यहीं तैयार हुई

एएसआइ की विज्ञान शाखा में वर्ष 2003-04 रामजन्म भूमि में मिले अवशेषों पर रिपोर्ट की गई थी। इससे पहले शाखा के विशेषज्ञों ने अयोध्या जाकर रामजन्म भूमि में मिले अवशेषों का परीक्षण व उनका केमिकल ट्रीटमेंट भी किया था। सुप्रीम कोर्ट में तब भी प्रकरण की सुनवाई चल रही थी और यह रिपोर्ट कोर्ट के समक्ष भी पेश की गई थी।

यह भी पढ़ें: इस घाटी में है सात तालों का मनमोहक संसार, ट्रैकिंग के शौकीनों के लिए भी है कुछ खास; जानिए

विज्ञान शाखा को शिफ्ट करना उचित नहीं

विज्ञान शाखा के निदेशक रहे और बाद में संयुक्त महानिदेशक पद से रिटायर हुए दून निवासी डॉ. आरके शर्मा का कहना है कि ऐतिहासिक कार्यालय को शिफ्ट करने का निर्णय उचित नहीं है। यदि कहीं किसी स्तर पर कोई कमी पाई जा रही है तो उसे दूर करने का काम उच्चाधिकारियों का है। हालांकि, नीतिगत स्तर पर यह निर्णय किस वजह से लिया गया है, इस बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता। 

यह भी पढ़ें: ऑस्कर में धूम मचाने को तैयार पौड़ी का मोती बाग, यहां एक किसान ने लिखी नई इबारत

Posted By: Bhanu

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस