देहरादून, जेएनएन। Arogya Setu App कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ी जा रही लड़ाई में आरोग्य सेतु एप को लोग कवच की तरह इस्तेमाल कर रहे हैं। प्रधानमंत्री ने 14 अप्रैल को एप डाउनलोड करने की अपील की थी, जिसके बाद प्रदेश में भी लोग लगातार एप डाउनलोड कर रहे हैं। उत्तराखंड में फिलहाल 9 लाख 88 हजार 826 लोग इस एप का इस्तेमाल कर रहे हैं। 

आरोग्य सेतु कोरोना से जोखिम का स्तर बताता है। यह एप सेल्फ असेसमेंट टेस्ट में दिए गए लक्षणों, बीमारियों जैसी जानकारियों और आपकी लोकेशन के आधार पर बताता है कि आपको कोरोना का कितना जोखिम है। आपको टेस्ट की, डॉक्टर को दिखाने की या फोन पर परामर्श की जरूरत है या नहीं। एप पर प्रदेश और सेंट्रल हेल्पलाइन नंबर भी हैं। यही नहीं यह आपको ट्वीट फीड के जरिए कोरोना से जुड़ी लाइव जानकारियां भी देता रहता है। 

यह आपकी लोकेशन और ब्लूटूथ का इस्तेमाल कर यह जांचता रहता है कि आपके आसपास कोई संक्रमित व्यक्ति या संभावित संक्रमित तो नहीं है। साथ ही संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने की आशंका के बारे में अलर्ट और नोटिफिकेशन भी देता है। बल्कि इस पर अब ई-पास का भी सेक्शन जोड़ दिया गया है। 

यह भी पढ़ें: coronavirus से जंग में ढाल बनेगा कोरोना ओवन, वायरस को सतह से इंसान तक नहीं पहुंचने देगा

चीफ ऑफिसर ऑपरेशंस डॉ. अभिषेक त्रिपाठी के अनुसार आरोग्य सेतु एप कोरोना वायरस को लेकर हर तरह की जानकारी से अपडेट करता है। शारीरिक दूरी के बारे में भी यह सतर्कता का संदेश देता है। यह व्यक्ति के जोखिम का स्तर भी बताता है। ऐसे में अधिकाधिक लोगों से इस एप को डाउनलोड करने की अपील की गई है।

यह भी पढ़ें: Arogya Setu App क्यों है जरूरी और कैसे बचाता है आपको कोरोना के खतरे से; इस खबर में पढ़ें

Edited By: Raksha Panthari

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट