जागरण संवाददाता, ऋषिकेश। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान ऋषिकेश को उच्चतम और एडवांस मेडिकल केयर, उच्च  गुणवत्तायुक्त अनुसंधान के उत्कृष्ट कार्यों के लिए बेस्ट मेडिकल यूनिवर्सिटी 2020 अवार्ड से नवाजा गया है। देहरादून इंटरनेशनल साइंस एंड टेक्नोलॉजी फेस्टिवल में उत्तराखंड काउंसिल फॉर साइंस और टेक्नोलॉजी (यूकॉस्ट)की ओर यह पुरस्कार दिया गया। अवॉर्ड सेरिमनी में वर्चुअल माध्यम से जुड़े संस्थान के डीन एकेडमिक्स प्रो. मनोज गुप्ता ने इस पुरस्कार को प्राप्त किया। इस दौरान एम्स निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने संस्थान की ओर से मरीजों को विश्व स्तरीय स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराने का संकल्प दोहराया।

एम्स ऋषिकेश को इस सम्मान से नवाजे जाने पर संस्थान के निदेशक ने कहा कि एम्स ऋषिकेश अपनी उत्कृष्ट सेवाओं को निरंतर आगे बढ़ाएगा। उन्होंने कहा कि यह सम्मान सराहनीय है। एम्स ऋषिकेश की समस्त सेवाएं उत्तराखंड ही नहीं देश के कई अन्य राज्यों में जन-जन तक पहुंच रही हैं, साथ ही हमारा सतत प्रयास रहेगा कि प्रत्येक जनमानस हमारी सेवाओं से लाभान्वित हो। ऐसे में चाहे वह एडवांस उपचार हो या फिर गांव-गांव और घर-घर तक पहुंचने वाला आउटरीच प्रोग्राम हो। एम्स ऋषिकेश मरीजों की उच्चतम गुणवत्ता की केयर के लिए प्रतिबद्ध है। 

प्रो. रवि कांत ने बताया कि संस्थान स्वास्थ्य सेवाओं में उत्तराखंड की भौगोलिक पस्थितियों को ध्यान में रखते हुए नित नए प्रयास कर रहा है, जिसमें एम्स परिसर में हेलीपैड सेवाएं और ट्रॉमा सेंटर, डायलिसिस यूनिट के साथ कई मल्टी स्पेशलिटी यूनिट्स स्थापित कर दी गई हैं। इसका सीधा उद्देश्य मरीजों को उच्च सुविधा और गुणवत्ता के साथ उपचार का लाभ पहुंचाना है। 

संकायाध्यक्ष अकादमिक प्रो. मनोज गुप्ता ने कहा कि संस्थान ने वर्ष 2020 में कई ऐसे कार्य किए हैं, जो कि एम्स ऋषिकेश की प्रतिबद्धताओं को साबित करते हैं। उन्होंने आगे बताया कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी से लड़ने के लिए एम्स ऋषिकेश में अत्याधुनिक मशीन एवं उच्च गुणवत्ता का उपचार आदि उपलब्ध कराया गया है। इस अवसर पर संस्थान के आउटरीच सेल के नोडल ऑफिसर डॉ. संतोष कुमार जी आदि मौजूद थे।

यह भी पढ़ें- चिकित्सा क्षेत्र को ग्राफिक एरा का तोहफा, टाइफाइड की जांच को किया विश्वसनीय तकनीकी का आविष्कार

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021