देहरादून, जेएनएन। पेयजल निगम के कार्मिकों ने विभिन्न समस्याओं को लेकर शासन को पत्र लिखा। जिसमें कार्मिक अनुभाग पर निशाना साधते हुए कार्रवाई की मांग की है। मंगलवार को निगम  एसी-एसटी इंप्लाइज एसोसिएशन की ओर से अपर सचिव को भेजे पत्र में एसोसिएशन के महासचिव सुनील कुमार ने कहा कि कार्मिकों के सेवा संबधी प्रकरणों में छेड़छाड़ की गई है।

जिसका खामियाजा कार्मिकों को भुगतना पड़ रहा है। आरोप लगाया कि कार्मिक अनुभाग के अधिकारी जानबूझकर वरिष्ठता सूची और रोस्टर में गड़बड़ी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय के निर्देश के बावजूद जूनियर इंजीनियर के रोस्टर रजिस्टर में एसी-एसटी के कार्मिकों को सेवा संबंधी लाभ से वंचित रखा जा रहा है। साथ ही कई बार विभाग की ओर से न्यायालय को गुमराह करने का भी प्रयास किया गया। आरोप लगाया कि रोस्टर रजिस्टर गायब होने के बाद उचचाधिकारियों को इसकी सूचना भी नहीं दी गई। जिसके बाद दोबारा रोस्टर रजिस्टर बनाया गया और इसमें नियमों को ताक पर रखा गया। साथ ही आरोप है कि रोष्टर रजिस्टर के त्रुटिपूर्ण होने पर की गई आपत्तियों को भी छिपाया गया। उन्होंने शासन से प्रकरण का संज्ञान लेते हुए तत्काल कार्रवाई की मांग की है।

यह भी पढ़ें: UPSC Civil Services Final Result 2019: सिविल सेवा परीक्षा में छाए उत्तराखंड के होनहार, रामनगर के शुभम ने हासिल किया 43वां स्थान

जिला युवा कल्याण अधिकारी का किया घेराव

 भारतीय जनता युवा मोर्चा के गढ़वाल संयोजक महेश जगूड़ी के नेतृत्व में युवाओं ने मंगलवार को जिला युवा कल्याण अधिकारी का घेराव किया। उन्होंने आरोप लगाया कि युवा कल्याण अधिकारी रिश्वत लेकर भर्ती कराते हैं। महेश जगूड़ी ने कहा कि उनके पास कुछ युवक आए थे, जिन्होंने बताया कि युवा कल्याण अधिकारी उनसे भर्ती के नाम पर पैसे मांग रहे हैं। हालांकि, जिला युवा कल्याण अधिकारी का कहना है कि उन पर लगाए गए आरोप निराधार हैं। वे किसी भी प्रकार की जांच को तैयार हैं। उन्होंने कभी भी इस प्रकार का कृत्य नहीं किया है।

यह भी पढ़ें: Unlock 3.0: उत्तराखंड में अनलॉक-थ्री की एसओपी जारी, जानिए क्या रहेगा खुला; किसपर प्रतिबंध

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस