संवाद सूत्र, डोईवाला: कई प्रतिष्ठित पुरस्कार व सम्मान प्राप्त कर चुके शिक्षक जगदंबा प्रसाद डोभाल आज किसी परिचय के मोहताज नहीं। शिक्षा के प्रति उनके जुनून का ही परिणाम है कि उन्हें राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल व प्रणब मुखर्जी के हाथों सम्मान मिल चुका है।

राजकीय इंटर कॉलेज दूधली मे गणित के शिक्षक के रूप में तैनात जगदंबा प्रसाद डोभाल की बनाई गई गणित की प्रयोगशाला विद्यालय में अध्ययनरत छात्र छात्राओं के लिए मील का पत्थर साबित हो रही है। ज्ञान के प्रकाश से वह विद्यालय में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं का भविष्य व हुनर दोनों संवार रहे हैं। जगदंबा प्रसाद डोभाल 26 वर्षो से अध्यापन का कार्य कर रहे हैं। राजकीय इंटर कॉलेज दूधली में विगत 12 वर्षों से वह गणित के शिक्षक के रूप में एक आदर्श स्थापित किए हुए हैं। शिक्षक जगदंबा प्रसाद डोभाल ने अपने स्कूल में गणित, पर्यावरण व कई अन्य विषयो की समेकित प्रयोगशाला भी तैयार की है। जो स्थानीय स्तर से एकत्रित कच्चे माल से तैयार की गई है। झाडू की सीकों से गणित के टूल्स विकसित करने वाले शिक्षक डोभाल वर्तमान में एनसीईआरटी में एनआरओईआर व हिंदी राज्यों की माध्यमिक कक्षाओं के लिए डिजिटलाइजेशन ऑफ मैथमेटिक्स बुक टीम के भी सदस्य हैं। डोभाल के निर्देशन में इस विद्यालय के छात्र प्रतिवर्ष राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिभाग कर रहे हैं। उन्हें वर्ष 2008 में राज्य स्तर का शैलेश मटियानी पुरस्कार, वर्ष 2010 का राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार व वर्ष 2012 का राष्ट्रीय आइसीटी शिक्षक पुरस्कार के अलावा कई पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है। राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित शिक्षक जगदंबा प्रसाद डोभाल ने बताया कि उनका शुरू से ही यह जुनून रहा है। उनकी कोशिश रहती है कि छात्र-छात्राओं को शिक्षा के साथ नया मुकाम भी मिल सके। छात्र छात्राएं देश का भविष्य हैं। उन्होंने बताया कि राजकीय इंटर कॉलेज दूधली में छात्र-छात्राओं की संख्या में इजाफा हो रहा है। आज यह विद्यालय सभी शिक्षकों प प्रधानाचार्य की मदद से नया मुकाम हासिल कर रहा है।

Edited By: Jagran